विश्वनाथ संस्कृत काव्यशास्त्री

आचार्य विश्वनाथ (पूरा नाम आचार्य विश्वनाथ महापात्र) संस्कृत काव्य शास्त्र के मर्मज्ञ और आचार्य थे। वे साहित्य दर्पण सहित अनेक साहित्यसम्बन्धी संस्कृत ग्रन्थों के रचयिता हैं। उन्होंने आचार्य मम्मट के ग्रंथ काव्य प्रकाश की टीका भी की है जिसका नाम “काव्यप्रकाश दर्पण” है।

sanskrit-aacharya
sanskrit-aacharya

इनके पिता का नाम चंद्रशेखर और पितामह का नाम नारायणदास था। 

कृतियाँ एवं महत्व

रस को साहित्य की आत्मा मानने वाले वे पहले संस्कृत आचार्य थे। साहित्य दर्पण में उनका सूत्र वाक्य रसात्मकं वाक्यं काव्यम् आज भी साहित्य का मूल माना जाता है ।

 साहित्य में रस की स्थापना करने वाले उनके इस दर्शन को विश्वव्यापी ख्याति मिली । साहित्य दर्पण और काव्य प्रकाश की टीका के अतिरिक्त विश्वनाथ द्वारा अनेक काव्यों की भी रचना भी की गई है जिनका पता साहित्य दर्पण और काव्यप्रकाश दर्पण से लगता है।

“राघव विलास”, संस्कृत महाकाव्य, “कुवलयाश्वचरित्”, प्राकृत भाषाबद्ध काव्य, “नरसिंहविजय” संस्कृत काव्य; “प्रभावतीपरिणय” और “चंद्रकला” नाटिका तथा “प्रशस्ति रत्नावली” जो सोलह भाषाओं में रचित करंभक है, का उल्लेख इन्होंने स्वयं किया है और उनके उदाहरण भी आवश्यकतानुसार दिए हैं जिनसे साहित्य दर्पणकार की बहुभाषाविज्ञता और प्रगल्भ पांडित्य की अभिव्यक्ति होती है।

स्रोत : आचार्य विश्वनाथ – विकिपीडिया

प्रातिक्रिया दे