Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

हिंदी साहित्य के पाठ्यक्रम (Hindi literature courses )को लेकर हमने वेबसाइट बनाया है जिसमें हिंदी साहित्य के आदिकाल, भक्तिकाल , रीतिकाल , आधुनिक काल , काव्यशास्त्र और भाषा विज्ञान का समावेश किया गया है.

sahityin-Hindi literature courses

यहाँ आप निम्न बिन्दुओं को विस्तार से समझेंगे: –

भाषा इतिहास

भाषा व्याकरण

भाषा विज्ञान

हिन्दी साहित्येतिहास

आदिकाल

भक्तिकाल

रीतिकाल

आधुनिक काल

नाटक/ एकांकी

कहानी/ उपन्यास

निबंध/ आलोचना

पत्रकारिता

साहित्यिक परिचय

अज्ञेय ** अमरकांत ** अमृतलाल नागर ** अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध ** अरस्तू पाश्चात्य काव्यशास्त्री ** कबीर दास ** कवयित्री महादेवी वर्मा ** कवि अमीर खुसरो ** कवि आलम ** कवि कबीर ** कवि चंदवरदाई ** कवि तुलसीदास ** कवि दलपत विजय ** कवि देवसेन ** कवि नरपति नाल्ह ** कवि नागार्जुन ** कवि भारतेन्दु हरिश्चंद्र ** कवि सुमित्रानंदन पन्त ** कवि सूरदास ** काव्यशास्त्री प्लेटो ** कृष्णा सोबती ** केदारनाथ सिंह ** केशवदास ** खुमाण रासो ** गजानन माधव मुक्तिबोध ** गुरु नानक देव ** घनानंद ** चंदबरदाई ** जगनिक ** जयशंकर प्रसाद ** जैनेंद्र कुमार ** त्रिलोचन शास्त्री  ** नगेंद्र ** नन्ददुलारे वाजपेयी  ** नागार्जुन ** नामवर सिंह ** बदरीनारायन चौधरी ** बिहारी ** बीसलदेव रासो ** भट्ट केदार मधुकर कवि ** भूषण ** मन्नू भंडारी ** मलिक मुहम्मद जायसी ** महावीर प्रसाद द्विवेदी ** मीराबाई ** मुक्तिबोध ** मुंशी प्रेमचंद ** मैथिलीशरण गुप्त ** मोहन राकेश ** रघुवीर सहाय (Raghuveer Sahay) ** रसखान ** राजेन्द्र यादव  ** राधाचरण गोस्वामी ** राम विलास शर्मा ** रामचन्द्र शुक्ल ** रामधारी सिंह ‘दिनकर’ ** रैदास या रविदास ** लीलाधर जंगूड़ी ** विद्याधर ** विद्यानिवास मिश्र ** विद्यापति ** शमशेर बहादुर सिंह ** श्रीकांत वर्मा ** साहित्यकार ** सुदामा पाण्डेय “धूमिल” ** सुभद्रा कुमारी चौहान ** सूरदास ** सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला ** स्वंयभू

अन्य गद्य विधा

संस्कृत काव्यशास्त्र

पाश्चात्य काव्यशास्त्र

हिंदी काव्यशास्त्र

वस्तुनिष्ठ प्रश्न

महत्वपूर्ण रचनाएँ

Latest Posts

  • अंतः सलीला कामायनी वस्तुनिष्ठ प्रश्न
    अंतः सलीला कामायनी वस्तुनिष्ठ प्रश्न 1. अंतः सलीला के रचनाकार हैं-1. अज्ञेय✅2. मुक्तिबोध3. पंत4. महादेवी वर्मा 2. अंतः सलीला का रचनाकाल है-1. 1957 ई.2. 1958 ई.3. 1959 ई.✅4. 1960 ई. 3. अंतः सलीला किस रेलयात्रा के दौरान लिखी गई-1. दिल्ली से इलाहाबाद2. आगरा से इलाहाबाद3. आगरा से दिल्ली4. इलाहाबाद से दिल्ली✅5. इलाहाबाद से आगरा 4. […]
  • प्रमुख नाटककार के नाटक
    प्रमुख नाटककार के नाटक भीष्म साहनी के नाटक 1-हानूश (1977) 2-कबिरा खड़ा बाजार में(1981) 3-माधवी (1985) 4-मुआवजे (1993) 5-रंग दे बसंती चोला (1998) 6-आलमगीर (1999) जगदीश चंद्र माथुर के नाटक 1-कोणार्क (1951) 2-शारदीया(1959) 3-पहला राजा (1969) 4-दशरथनंदन (1974) 5-रघुकुल रीति (1985) लक्ष्मीनारायण लाल के नाटक 1-अंधा कुआँ(1955) 2-मादा कैक्टस (1959) 3-तीन आँखों वाली मछली (1960) […]
  • हिन्दी साहित्य के इतिहास ग्रन्थ
    हिन्दी साहित्य के इतिहास ग्रन्थ 1.गार्सा-द-तासी-इस्त्वार द ला लितरेत्यूर ऐन्दुई ऐन्दुस्तानी 2.मौलवी करीमुद्दीनतबका तश्शुअहा में तजकिरान्ई जुअहा- ई हिंदी 3.शिवसिंह सेंगर शिवसिंह सरोज 4.सरजाँर्ज ग्रियर्सन -द माडर्न वर्नेक्यूलर लिटरेचर आँफ हिन्दुस्तान 5.मिश्रबन्धु- मिश्रबन्धु विनोद( श्यामबिहारी मिश्र , शुकदेव बिहारी मिश्र , गणेश बिहारी मिश्र ) 6.आचर्य रामचन्द शक्ल- हिंदी साहित्य का इतिहास 7.डा. रामकुमार वर्मा-हिंदी […]
  • प्रगतिवाद पर वस्तुनिष्ठ प्रश्न
    प्रगतिवाद पर वस्तुनिष्ठ प्रश्न 1 प्रगतिवादी साहित्य में निहित है1 मार्क्सवादी दर्शन2 सामाजिक चेतना3 भावबोध4 सभी ★ 2 प्रगतिवाद के मार्क्सवाद समान रूसी व पश्चिमी दर्शन है1 साम्यवाद2 कम्युनिज्म3 दोनो ★4 दोनों नहीं 3 विश्व का पहला लेखक संगठन है जिसके समान प्रगतिशील लेखक संघ की स्थापना हुई1 वर्ल्ड राइटर एसोसिएसन2 सोवियत लेखक संघ ★3 […]
  • भारतीय काव्यशास्त्र महत्त्वपूर्ण तथ्य
    भारतीय काव्यशास्त्र महत्त्वपूर्ण तथ्य
  • परिवर्तन सुमित्रानंदन पन्त सम्पूर्ण कविता व्याख्या
    ‘परिवर्तन’ यह कविता 1924 में लिखी गई थी। कविता रोला छंद में रचित है। यह एक लम्बी कविता है। यह कविता ‘पल्लव’ नामक काव्य संग्रह में संकलित है। परिवर्तन कविता को समालोचकों ने एक ‘ग्रैंड महाकाव्य’ कहा है। स्वयं पंत जी ने इसे पल्लव काल की प्रतिनिधि रचना मानते हैं। परिवर्तन को कवि ने जीवन […]
  • भक्ति काल के विविध तथ्य
    भक्ति काल के विविध तथ्य भक्ति काल को ‘हिन्दी साहित्य का स्वर्ण काल’ कहा जाता है। भक्ति काल के उदय के बारे में सबसे पहले जार्ज ग्रियर्सन ने मत व्यक्त किया। वे ही ‘ईसायत की देन’ मानते हैं। ताराचंद के अनुसार भक्ति काल का उदय ‘अरबों की देन’ है। रामचन्द्र शुक्ल के मतानुसार, ‘देश में […]
  • भारतेंदु युग प्रसिद्ध पंक्तियाँ
    भारतेंदु युग प्रसिद्ध पंक्तियाँ रोवहु सब मिलि, आवहु ‘भारत भाई’ ।हा! हा! भारत-दुर्दशा न देखी जाई।। -भारतेन्दु कठिन सिपाही द्रोह अनल जा जल बल नासी।जिन भय सिर न हिलाय सकत कहुँ भारतवासी।। -भारतेन्दु यह जीय धरकत यह न होई कहूं कोउ सुनि लेई। कछु दोष दै मारहिं और रोवन न दइहिं।। -प्रताप नारायण मिश्र अमिय […]
  • काव्य हेतु
    काव्य हेतु का तात्पर्य कवि-कर्म के कारण से है । काव्य हेतु की परिभाषा काव्य-हेतु अर्थात काव्य की रचना करने वाले कवि में ऐसी कौन सी विलक्षण शक्ति /कारण/तत्व है जिसके द्वारा वह साधारण मानव होते हुये भी असाधारण काव्य की सर्जना कर देता है। काव्य-हेतु के अंतर्गत तीन साधन या कारण मुख्य रूप से […]
  • भाषा परिवर्तन पर वस्तुनिष्ठ प्रश्न
    भाषा परिवर्तन पर वस्तुनिष्ठ प्रश्न 1, भाषा वह साधन है जिसके माध्यम से हम सोचते है तथा अपने विचारों को व्यक्त करते है।उपरोक्त परिभाषा किसका है 1 प्लेटो2 क्रोचे3 स्वीट4 भोलानाथ तिवारी♥️ 2 भाषा के सम्बंध में कौन सा कथन असत्य है। 1 भाषा पैतृक सम्पति नही है2 भाषा का अंतिम रूप होता है♥️3 भाषा […]