हिन्दी व्याकरण – पर्यायवाची शब्द

( थ )

थोड़ा- अल्प, न्यून, जरा, कम।
थाती- जमापूँजी, धरोहर, अमानत।
थाक- ढेर, समूह।
थप्पड़- तमाचा, झापड़।
थकान- थकावट, श्रांति, थकन, परिश्रांति, क्लांति।
थल- स्थान, स्थल, भूमि, धरती, जमीन, जगह।
थवई- राज, राजगीर, मिस्त्री, राजमिस्त्री।
थोथा- सारहीन, खोखला, पोला, व्यर्थ, तुच्छ, दुष्ट, निकम्मा, खाली।
थोबड़ा- मुखड़ा, मुँह, थूथन।
थंभ- खंभ, खंभा, स्तम्भ।
थका माँदा- क्लान्त, श्रान्त, परिश्रान्त, थका हुआ, उकताया हुआ।
थपेड़ा- थप्पड़, चपेट, तमाचा, झापड़, चाँटा, धक्का, टक्कर।
थाह- अंत, सीमा, हद, पता, परिचय, जानकारी, अंदाज।
थोपना- लेपना, चढ़ाना, जमाना, आरोपित करना, कलंकित करना, बदनाम करना, चिपकाना।

( द )

दूध- दुग्ध, दोहज, पीयूष, क्षीर, पय, गौरस, स्तन्य।
दास- नौकर, चाकर, सेवक, परिचारक, अनुचर, भृत्य, किंकर।
दासी- परिचारिका, अनुचरी, बाँदी, नौकरानी।
दुःख- पीड़ा, कष्ट, व्यथा, वेदना, संताप, संकट, क्लेश, यातना, यन्तणा, शोक, खेद, पीर।
देवता- सुर, देव, अमर, वसु, आदित्य, निर्जर, त्रिदश, गीर्वाण, अदितिनंदन, अमर्त्य, अस्वप्न, आदितेय, दैवत, लेख, अजर, विबुध।
द्रव्य- धन, वित्त, सम्पदा, विभूति, दौलत, सम्पत्ति।
दैत्य- असुर, इंद्रारि, दनुज, दानव, दितिसुत, दैतेय, राक्षस।
दधि- दही, गोरस, मट्ठा, तक्र।
दरिद्र- निर्धन, ग़रीब, रंक, कंगाल, दीन।
दिन- दिवस, याम, दिवा, वार, प्रमान, वासर, अह्न।
दीन- ग़रीब, दरिद्र, रंक, अकिंचन, निर्धन, कंगाल।
दीपक- दीप, दीया, प्रदीप।
दुष्ट- पापी, नीच, दुर्जन, अधम, खल, पामर।
दाँत- दशन, रदन, रद, द्विज, दन्त, मुखखुर।
दर्पण- शीशा, आरसी, आईना, मुकुर।
दुर्गा- चंडिका, भवानी, कुमारी, कल्याणी, सिंहवाहिनी, कामाक्षी, सुभद्रा, महागौरी, कालिका, शिवा, चण्डी, चामुण्डा।
दया- अनुकंपा, अनुग्रह, करुणा, कृपा, प्रसाद, संवेदना, सहानुभूति, सांत्वना।
देव-अमर, देवता, सुर, निर्जर, वृन्दारक, आदित्य।
दंगल- कुश्ती, मल्लयुद्ध, पहलवानी, बाहुयुद्ध।
दक्ष- निपुण, प्रवीण, चतुर, कुशल, होशियार।
दनुज- असुर, दानव, दैत्य, राक्षस, निशाचर।
दम- ताकत, बल, शक्ति, दमखम।
दर- भाव, मूल्य, रेट, कीमत।
दरख्त- वृक्ष, तरु, पेड़, विटप, द्रुम।
दरियादिल- उदार, दानी, दानशील, फ़राख़दिल।
दरीचा- खिड़की, गवाक्ष, झरोखा।
दशकंधर- दशानन, लंकापति, दशकंठ, रावण।
दशरथ- अवधेश, कौशलपति, दशस्यंदन, रावण।
दस्तूर- रीति-रिवाज, प्रथा, परंपरा, चलन।
दादा- पितामह, बाबा, आजा।
दादी- पितामही, आजी।
दादुर- मेंढक, मंडूक, भेक।
दारा- बीवी, पत्नी, अर्धांगिनी, वामांगिनी, गृहणी।
दिनकर- सूरज, सूर्य, भानु, भास्कर, दिवाकर, रवि, दिवेश, दिनेश।
दिवंगत- स्वर्गीय, मृत, मरहूम, परलोकवासी।
दीदा- नेत्र, नयन, आँख, चक्षु।
दुनिया- जग, जगत, खलक, जहान, विश्व, संसार, भव।
दुर्गुण- अवगुण, ऐब, बुराई, खामी।
दुर्जन- दुष्ट, खल, शठ, असाधु, पतित, असज्जन।
दुर्भिक्ष- अकाल, दुकाल, दुष्काल, सूखा।
दुर्लभ- असुलभ, अनोखा, विरल, अनूठा, कठिन, दुर्गम,
दुविधा- धर्मसंकट, सन्देह, आगा-पीछा, असमंजस, उधेड़बुन, अनिश्चय।
दुश्मन- रिपु, वैरी, अरि, शत्रु, बैरी।
दुष्कर- कठिन, दुसाध्य, दूभर, मुश्किल।
देश- राष्ट्र, राज्य, मुल्क।
देशज- देशजात, देशीय, देशी, मुल्की, वतनी।
देशाटन- यात्रा, विहार, पर्यटन, देशभ्रमण।
देहाती- ग्रामवासी, ग्रामीण, ग्राम्य।
द्राक्षा- अंगूर, दाख, रसा, रसाला।
द्वेषी- विद्वेषी, ईर्ष्यालु, विरोधी।
द्वैत- जोड़ा, युगल, द्वय, यमल, युग, युति।
द्वैपायन- वेदव्यास, व्यास, पाराशर, कृष्ण।
दंग- विस्मित, चकित, घबराहट, भौचक्का।
दंगा- उपद्रव, उत्पात, शोरगुल, लड़ाई, झगड़ा, फ़साद।
दंड- डंडा, सोंटा, लाठी, छड़ी, जुर्माना, सजा।
दगाबाज- नमकहराम, बेवफा, धोखेबाज, कपटी, छली।
दफा- बेर, आवृत्ति, बार।
दफ्तर- कार्यालय, आफिस।
दबदबा- रोब, डर, खौफ, भय, आतंक।
दयामय- दयायुक्त, दयावान, दयालु, दयाशील, करुणामय, दीनबंधु।
दयाहीन- ह्रदयहीन, बेदर्द, संवदेनाशून्य, अकरुण, बेरहम, निर्दय, कठोर।
दरबान- द्वारपाल, प्रतिहार, ड्योढ़ीदार।
दरवाजा- द्वार, किवाड़, कपाट, पल्ला।
दरार- रंक, निर्धन, कंगाल, दीन, गरीब, फटीचर, फटेहाल।
दर्जा- श्रेणी, पद, पदवी, हद, सीमा, कक्षा, क्लास, वर्ग, श्रेणी।
दर्द- पीड़ा, व्यथा, दुःख, तकलीफ, करुणा, दया, तरस।
दर्प- घमंड, अहंकार, गर्व, अभिमान, उदंडता, दबदबा, प्रभाव।
दर्शन- भेंट, मुलाकात, साक्षात्कार, आमना-सामना, देखा-देखी।
दल- पत्र, पत्ता, पंखुड़ी, समूह, झुंड, गुट, गिरोह।
दलना- पीसना, कुचलना, मसलना, नष्ट करना, ध्वस्त करना, तोड़ना, खंडित करना।
दवा- औषध, दवाई, इलाज, चिकित्सा, उपचार, दवा-दारू।
दशा- अवस्था, हालत, स्थिति, हाल।
दस्ता- डंडा, सोंटा, छड़ी, टुकड़ी, दल, समूह।
दस्तावेज- अधिकारपत्र, प्रलेख, प्रपत्र, क़ानूनी, कागज।
दस्यु- डाकु, चोर, लुटेरा, डकैत।
दाँव- दफा, अवसर, मौका, युक्ति, चाल।
दाई- धात्री, धाय, उपमाता, आया।
दाग- धब्बा, निशान, चिन्ह, अंक, दोष, कलंक।
दानव- असुर, राक्षस, निशाचर, दैवारि।
दावा- अधिकार, मुकदमा, जोर, गर्व, घमंड।
दिखावटी- दर्शनार्थ, दिखाऊ।
देह- काया, तन, शरीर, वपु, गात।
दिमाग- मस्तिक, जेहन, मगज, भेजा, स्मरण शक्ति, मानसिक शक्ति, बुद्धि, प्रज्ञा, मेधा।
दिल- ह्रदय, कलेजा, जी, मन, जिया, हिया, घट।
दिलावर- बहादुर, साहसी, वीर, उत्साही, साहसिक, हिम्मती।
दिलासा- आश्वासन, ढाढ़स, तसल्ली, धैर्य, धीरज।
दिव्य- स्वर्गिक, लोकातीत, प्रकाशवान, चमकीला, मनोहर, सुन्दर, भव्य।
दिशा- ओर, तरफ, दिक्, जानिब।
दीक्षा- गुरुमंत्र, मंत्रोपदेश, उपनयन, संस्कार।
दीप- दीपक, चिराग, दीया, प्रदीप, बत्ती, संदीप, शमा, वर्तिका।
दीप्ती- प्रकाश, उजाला, प्रभा, आभा, चमक, रोशनी, शोभा।
दीर्घ- बड़ा, लंबा, विशाल, बड़ा, ऊँचा, विस्तृत।
दीवाली- दीपावली, दीपमाला, दीपमालिका, दीपोत्सव।
दुबला- पतला, क्षीण, तनु, कमजोर, निर्बल, दुर्बल।
दुर्गम- दुर्जेय, दुर्बोध, विकट, कठिन, अगम्य, दुर्गमनीय।
दुर्दशा- बुरी, दशा, खराब, हालत, अवस्था, दुर्गति।
दुःशील- अविनीत, अभद्र, अशिष्ट, उद्दंड।
दुष्ट- खल, दुराचारी, दुर्जन, धूर्त, लुच्चा, बदमाश।
दूत- संदेशवाहक, चर, राजदूत, प्रतिनिधि, राजनयिक, सफीर।
दूर- परे, पृथक, अलग, भिन्न।
दृढ- पुष्ट, मजबूत, कड़ा, शक्तिशाली, स्थायी, अटल, निडर, निर्भय, दृष्टि, विचार, सिद्ध।
दृष्टिकोण- मत, नजरिया, परिपेक्ष्य।
देखभाल- देखरेख, निर्देशन, रखवाली, निगरानी, निरीक्षण।
देवता- अमर, देव, सुर, त्रिदिवेश, विश्वरूप, आकाशचारी।
देववाला- देववधू, देवांगना, अप्सरा, मेनका।
देवमंदिर- देवालय, प्रासाद, देवस्थान, मंदिर।
देह- शरीर, तन, बदन, काया।
दैत्य- असुर, राक्षस, रजनीचर, निशाचर, पिशाच।
दोगला- संकर, वर्णसंकर, हरामी, अधर्मज।
दोष- अवगुण, ऐब, खराबी, विकार, खामी, बुराई, अपराध, कुसूर, जुर्म।
दोषी- अपचारी, कदाचारी, अपराधी, कसूरवार, दुर्गुणी।
द्रव्य- वस्तु, पदार्थ, चीज, सामग्री, धन, दौलत, रुपया-पैसा।
द्रुत- तेज, शीघ्रगामी, त्वरित, क्षिप्र।
द्रोपदी- पांचाली, कृष्णा, याज्ञसेनी, सैरंध्री, द्रुपदसुता।
द्वंद्व- दुविधा, कशमकश, उधेड़बुन।
द्वेष- शत्रुता, वैर, दुश्मनी, विद्वेष, विरोध।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.