Browsing Tag

हिन्दी व्याकरण

अनुच्छेद लेखन

किसी एक भाव या विचार को व्यक्त करने के लिए लिखे गये सम्बद्ध और लघु वाक्य-समूह को अनुच्छेद-लेखन कहते हैं।दूसरे शब्दों में- किसी घटना, दृश्य अथवा विषय को संक्षिप्त किन्तु सारगर्भित ढंग से जिस लेखन-शैली में प्रस्तुत किया जाता है, उसे

हिन्दी व्याकरण: एकार्थक शब्द

हिन्दी व्याकरण: एकार्थक शब्द यहाँ कुछ प्रमुख एकार्थक शब्द दिया जा रहा है। ( अ ) अहंकार- मन का गर्व। झूठे अपनेपन का बोध।अनुग्रह- कृपा। किसी छोटे से प्रसत्र होकर उसका कुछ उपकार या भलाई करना।अनुकम्पा- बहुत कृपा। किसी के

वाक्य के भेद

वाक्य के भेद वाक्य के भेद(1) वाक्य के भेद- रचना के आधार पर(i)साधारण वाक्य या सरल वाक्य:-(ii)मिश्रित वाक्य:-(iii)संयुक्त वाक्य :-(2) वाक्य के भेद- अर्थ के आधार पर (1) वाक्य के भेद- रचना के आधार पर रचना के आधार पर वाक्य के तीन

पत्र लेखन

पत्र लेखन महत्त्वपूर्ण ही नहीं, अपितु अत्यंत आवश्यक है, कैसे? जब आप विद्यालय नहीं जा पाते, तब अवकाश के लिए प्रार्थना-पत्र लिखना पड़ता है। सरकारी व निजी संस्थाओं के अधिकारियों को अपनी समस्याओं आदि की जानकारी देने के लिए पत्र लिखना पड़ता है।

शब्द शक्ति व प्रकार

काव्य में रस का संचार शब्द-शक्तियों के द्वारा होता हैं। यहाँ शब्दों का विशेष महत्त्व माना गया हैं। काव्य-भाषा में वाक्यों की रचना इस बात की सूचक हैं कि उसमें अनेक प्रकार के शब्दों का प्रयोग प्रकरण, प्रसंग और कवि-आशय के अनुसार हुआ हैं।

वाक्य विचार

जिस शब्द समूह से वक्ता या लेखक का पूर्ण अभिप्राय श्रोता या पाठक को समझ में आ जाए, उसे वाक्य कहते हैं।सरल शब्दों में- वह शब्द समूह जिससे पूरी बात समझ में आ जाये, 'वाक्य' कहलाता हैै। जैसे- विजय खेल रहा है, बालिका नाच रही हैैै। वाक्य

वचन की परिभाषा प्रकार व नियम

शब्द के जिस रूप से एक या एक से अधिक का बोध होता है, उसे हिन्दी व्याकरण में 'वचन' कहते है।दूसरे शब्दों में- संज्ञा, सर्वनाम, विशेषण और क्रिया के जिस रूप से संख्या का बोध हो, उसे 'वचन' कहते है। जैसे- फ्रिज में सब्जियाँ रखी हैं।तालाब

निबन्ध लेखन

निबन्ध लिखना भी एक कला हैं। इसे विषय के अनुसार छोटा या बड़ा लिखा जा सकता है। निबंध को प्रबंध, लेख आदि नामों से पुकारा जाता है। निबन्ध लेखन निबंध का अर्थआधुनिक निबन्धों के जन्मदाता कौन है ?निबन्ध का लक्ष्य क्या होता है?निबंध के कितने

हिन्दी व्याकरण: अनेक शब्दों के लिए एक शब्द

हिन्दी व्याकरण: अनेक शब्दों के लिए एक शब्द भाषा की सुदृढ़ता, भावों की गम्भीरता और चुस्त शैली के लिए यह आवश्यक है कि लेखक शब्दों (पदों) के प्रयोग में संयम से काम ले, ताकि वह विस्तृत विचारों या भावों को थोड़े-से-थोड़े शब्दों में व्यक्त कर

रस की व्युत्पत्ति

साहित्य को पढ़ने, सुनने या नाटकादि को देखने से जो आनन्द की अनुभूति होती है, उसे रस कहते हैं। रस परिभाषारस की व्युत्पत्ति काव्यशास्त्र का प्रथम आचार्य कौन हैं ?रस संप्रदाय का प्रवर्तक किसे कहा जाता है ?रस की निष्पत्ति कैसी होती है ?