हिन्दी व्याकरण – पर्यायवाची शब्द

( ऊ )

ऊँचा- तुंग, उच्च, बुलंद, उर्ध्व, उत्ताल, उन्नत, ऊपर, शीर्षस्थ, उच्च कोटि का, बढ़िया, अच्छा, चोटी का, गगनस्पर्शी।
ऊँचाई- बुलंदी, उठान, उच्चता, तुंगता, बुलन्दी।
ऊँचा करना- उन्नत करना, उत्थित करना, ऊपर उठाना।
ऊँट- करभ, उष्ट्र, लंबोष्ठ, साँड़िया।
ऊखल- ओखली, उलूखल, कूँडी।
ऊसर- अनुपजाऊ, बंजर, अनुर्वर, वंध्या, भूमि।
ऊधम- उपद्रव, उत्पात, धूम, हुल्लड़, हुड़दंग, धमाचौकड़ी।
ऊँघ- तंद्रा, अर्द्ध-निद्रा, झपकी, ऊँघाई।
ऊँघना- झपकी लेना, तंद्रिल होना, तंद्राभिभूत होना, अलसाना, सुस्त पड़ना, पलक मारना, निद्रालु होना, अर्द्धनिद्रित होना, औंघाना, झपकी।
ऊधम- उत्पात, उपद्रव, दंगा, फ़साद, हुल्लड़, हंगामा, होहल्ला, धमाचौकड़ी।
ऊल-जलूल- अव्यवस्थित, बेढंगा, बेतुका, बेमेल, अक्रमिक, अविचारित, अस्तव्यस्त।
उषाकाल- प्रातः काल, सवेरा, तड़का, अरुणोदय, प्रभात, प्रातः, उदयकाल, सुबह, अमृतबेला, सूर्योदय।
ऊष्मा- तपन, गर्मी, ताप, जलन।

( ऋ )

ऋक्ष- भालू, रीछ, भीलूक, भल्लाट, भल्लूक।
ऋक्षेश- चंद्रमा, चंदा, चाँद, शशि, राकेश, कलाधर, निशानाथ।
ऋण- कर्ज, कर्जा, उधार, उधारी।
ऋणी- कर्जदार, देनदार।
ऋतु- रुत, मौसम, मासिक धर्म, रज:स्राव।
ऋतुराज- बहार, मधुमास, वसंत, ऋतुपति, मधुऋतु।
ऋषभ- वृष, वृषभ, बैल, पुंगव, बलीवर्द, गोनाथ।
ऋषि- साधु, महात्मा, मुनि, मनीषी, योगी, मन्त्र द्रष्टा, सूक्तद्रष्टा, तपस्वी।
ऋष्यकेतु- कामदेव, मकरकेतु, मकरध्वज, मदन, मनोज, मन्मथ।

( ए )

एकतंत्र- राजतंत्र, एकछत्र, तानाशाही, अधिनायकतंत्र।
एकदंत- गणेश, गजानन, विनायक, लंबोदर, विघ्नेश, वक्रतुंड।
एतबार- विश्वास, यकीन, भरोसा।
एषणा- इच्छा, आकांक्षा, कामना, अभिलाषा, हसरत।
एहसान- कृपा, अनुग्रह, उपकार।
एक करना- एकीकरण करना, सम्मिलित करना, मिलाना, जोड़ना, संघटित करना, संगठन बनाना।
एकता- मेल, मेलजोल, मेलमिलाप, संगठन, संघ, समानता, बराबरी, सामंजस्य, समन्वय, एकरूपता, एकसूत्रता, एकत्व, संश्रय, सद्भाव, सुमति।
एकरूप- समरूप, तुल्यरूप, अभिन्न, अनुरूप, समानता, सादृश्य, अभेद।
एकांत- निर्जन, सूना, शांत, शून्य, सुनसान, अकेला, एकाकी, तनहा, वीरान, विथावान।
एकांतप्रेमी- एकांतिक, एकांतप्रिय, लज्जालु, लज्जाशील, संकोची, शर्मीला।
एकांतवास- निर्जनवास, गुप्तावास, विजनवास।
एकाग्रता- दत्तचित्तता, लगन शीलता, तन्मयता, तल्लीनता।

( ऐ )

ऐंठ- कड़, दंभ, हेकड़ी, ठसक।
ऐबी- बुरा, खोटा, दुष्ट, अवगुण, गलती, त्रुटि, खामी, खराबी, कमी, अवगुण।
ऐयार- धूर्त, मक्कार, चालाक।
ऐहिक- सांसारिक, लौकिक, दुनियावी।
ऐक्य- एकत्व, एका, एकता, मेल।
ऐश्वर्य- धन-सम्पत्ति, विभूति, वैभव, समृद्धि, सम्पन्नता, ऋद्धि-सिद्धि।
ऐंठन- ऐंठ, मरोड़, बल, तनाव, अकड़, गर्व, घमंड, कुटिलभाव।
ऐंठना- उमेठना, मरोड़ना, इतराना, अकड़ना, शेखी बघारना।
ऐंद्रिक- ऐंद्रिय, इन्द्रियगत, इंद्रिय विषयक, इंद्रियजनित, इंद्रियजन्य।
ऐच्छिक- स्वैच्छिक, वैकल्पिक, इच्छानुसारी।
ऐयाश- कामी, कामुक, भोगी, लम्पट, विलासी, विषयी, भोगनिरत, विषयासक्त, कामाचारी, व्यभिचारी।
ऐयाशी- काम, कामचरिता, विलासता, भोग, विषयासक्ति, इंद्रियलोलुपता।
ऐश- सुख, चैन, आराम, ऐयाशी, विलास, भोग-विलास, व्याभिचार।

( ओ )

ओज- तेज, शक्ति, बल, चमक, कांति, दीप्ति, वीर्य।
ओजस्वी- बलवान, बलशाली, बलिष्ठ, पराक्रमी, जोरावर, ताकतवर, शक्तिशाली, शक्तिमान, जोरदार, सशक्त, सबल, वीर्यवान, कांतिवान, दीप्तिमान, तेजस्वी।
ओंठ- ओष्ठ, अधर, लब, रदनच्छद, होठ।
ओला- हिमगुलिका, उपल, करका, बिनौरी, तुहिन, जलमूर्तिका, हिमोपल।
ओस- नीहार, तुषार, तुहिन, निशाजल, शीत, शबनम, कण।
ओहार- आवरण, परदा, आच्छादन।
ओंकार- प्रणव, बीज-मंत्र, वेदमाता, ओउम।
ओखली- उलूखल, ऊखल।
ओछा- अधम, नीच, तुच्छ, कमीना, क्षुद्र, छिछोरा, नगण्य, बुरा, खोटा, छिछला, उथला, घटिया, हलका।
ओझल- अदृश्य, अंतर्धान, तिरोहित, लुप्त, छिपा हुआ, गायब, विलुप्त।
ओझाई- अभिचार, पिशाचविद्या, श्मशानतंत्र, इंद्रजाल, मन्त्र, जादू, टोना।
ओट- आड़, परदा, छिपाव, दुराव।
ओढ़ना- पहनना, धारण करना, लपेटना, ढकना।
ओर- दिशा, तरफ, पक्ष, किनारा, छोर, सिरा, अन्त।

( औ )

औचक- अचानक, यकायक, सहसा।
औरत- स्त्री, जोरू, घरनी, महिला, मानवी, तिरिया, नारी, वनिता, घरवाली।
औचित्य- उपयुक्तता, तर्कसंगति, तर्कसंगतता।
औलाद- संतान, संतति, आसऔलाद, बाल-बच्चे।
औषधालय- चिकित्सालय, दवाखाना, अस्पताल, हस्पताल, चिकित्सा भवन, शफाखाना।
औजार- उपकरण, यंत्र, हथियार।
और- दूसरा, भिन्न, अन्य, पराया, अधिक ज्यादा, एवं तथा व, के साथ, के अतिरिक्त, के साथ-साथ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.