Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

Browsing Tag

जैन साहित्य

स्वयंभू का साहित्यिक परिचय

महाकवि स्वयंभू अपभ्रंश के सर्वश्रेष्ठ कवि है। इनका समय आठवीं शती माना जाता है। स्वयंभू स्वयंभू, अपभ्रंश भाषा के महाकवि थे। स्वयंभू के पिता का नाम मारुतदेव और माता का पद्मिनी था। कवि ने अपने रिट्ठीमिचरिउ के आरंभ में भरत, पिंगल,

जैन साहित्य की प्रमुख रचनाएं

जैन कवियों ने आचार, रास, पाश, चरित आदि विभिन्न शैलियों में साहित्य लिखा है, लेकिन जैन साहित्य का सबसे अधिक लोकप्रिय रुप 'रास' ग्रन्ध माने जाते है। यह रास ग्रन्थ वीरगाथा रासो से अलग है। रास एक तरह से गेयरुपक है। जैन मंदिरों में आवक लोग

जैन साहित्य के बारे में तथ्य

जैन धर्म के मूल सिद्धान्त जैन धर्म के मूल सिद्धान्त चार बातों पर आधारित हैं - अहिंसा, सत्य भाषण , अस्तेय और अनासक्ति। बाद में ब्रह्माचर्य भी इसमें शामिल कर लिया गया। इस धर्म में बहुत से आचार्य और तीर्थकार हुए. जिनकी संख्या २४ मानी जाती