अंधा युग गीतिनाट्य वस्तुनिष्ठ प्रश्न

अंधा युग गीतिनाट्य वस्तुनिष्ठ प्रश्न

हिन्दी वस्तुनिष्ठ प्रश्न
हिन्दी वस्तुनिष्ठ प्रश्न


1)अंधायुग के कथानक का मूल स्त्रोत महाभारत की कौन सी घटनाएँ है???
उत्तराद्ध🎯
पूर्वाद्ध
दोनों
इनमें से कोई नही।

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
2)अंधायुग में कितने अंक है—
3
5🎯
7
9

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
3)अंधायुग का चौथा अंक है??
पशु का उदय
गांधारी का श्राप🎯
अश्वत्थामा का अद्ध सत्य
विजय एक क्रमिक आत्महत्या

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
4)अंधायुग का प्रकाशन हुआ है??
1951
1952
1954🎯
1955

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
5)अंधायुग किस विधा की रचना है–
काव्य
नाटक
गीतिनाट्य🎯
लोकगाथा

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
6)अंधायुग का नायक कौन है—
युधिष्ठिर
अर्जुन
अश्वत्थामा🎯
युयुत्सु

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
7)अंधायुग की रचना वर्तमान विश्व को परमाणु युद्ध के खतरे से अवगत कराने हेतु हुई है।
इस कथन की सार्थकता किस घटना से होती है–??
श्री कृष्ण गांधारी संवाद
युधिष्ठिर अर्जुन संवाद
युयुत्सु भीम संवाद
अश्वत्थामा द्वारा ब्रह्मास्त्र छोडे जाने से🎯

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
8)कौरव पक्ष का कौन सा योद्धा पाण्डवों के पक्ष मे शामिल हो गया था??
युयुत्सु🎯
अश्वत्थामा
दुशासन
सात्याकि

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
9)अंधायुग के पात्र पौराणिक है,लेकिन आधुनिक प्रांसंगिकता लिए हुए है””कथन है।
प्रसाद
शुक्ल
धर्मवीर भारती🎯
डाॅ नगेन्द्र

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
10)फिर क्या हुआ संजय,फिर क्या हुआ।यह कथन है????
धृतराष्ट
गांधारी🎯
कृष्ण
अश्वत्थामा

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
11)”इस मोह निशा से घिरकर”
में अलंकार है???
उपमा
रूपक🎯
मानवीकरण
उत्प्रेक्षा

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
12)नगर द्वार अपलक खुले ही रहें। मे अलंकार है ???
उपमा
रूपक
मानवीकरण🎯
उत्प्रेक्षा

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
13)अंधायुग में पात्रों की संख्या है???
12
14
16🎯
18

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
14)अंधायुग का उद्देश्य है???
सत्य की खोज तथा मर्यादा का प्रतिपादन।
युगबोध और मानव महत्व की प्रतिष्ठा।
कर्मवाद की प्रतिष्ठा
उपरोक्त सभी।🎯

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
15)वंचक, परात्पर कहा गया है??
अश्वत्थामा
कृष्ण🎯
विदुर
युयुत्सु

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
16)कौरव पक्ष से जीवित बचे थे???
अश्वत्थामा
कृतवर्मा
कृपाचार्य
उपरोक्त सभी🎯

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
17)गूंगो के सिवाय आज,
और कौन बोलेगा मेरी जय।
किसकी मनोव्यथा है??
गांधारी
अश्वत्थामा
धृतराष्ट🎯
दुर्योधन

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
18)शिशु भक्षी कहा गया है??
कृष्ण
अश्वत्थामा
युयुत्सु🎯
दुर्योधन

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
19)वीर नहीं वह तो भय की प्रतिमूर्ति है।किसका वर्णन किया गया है–???
कृष्ण
अश्वत्थामा🎯
युयुत्सु
कृतवर्मा

20)किसको पहली बार आशंकाव्यापी है???
युयुत्सु
अश्वत्थामा
धृतराष्ट🎯
गांधारी

प्रातिक्रिया दे