Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

Browsing Tag

पाश्चात्य काव्यशास्त्री

अरस्तू पाश्चात्य काव्यशास्त्री

अरस्तू पाश्चात्य काव्यशास्त्री प्लेटो के शिष्य अरस्तू ने कलाओं को अनुकरणात्मक मानते हुए भी उनके महत्त्व को स्वीकार किया।यह प्लेटो के विचारों से भिन्न दृष्टि थी।प्लेटो के विचार जहाँ नैतिक और सामाजिक हैं, वहीं अरस्तू की दृष्टि

प्लेटो पाश्चात्य काव्यशास्त्री

प्लेटो पाश्चात्य काव्यशास्त्री उद्भव के साक्ष्य ईसा के आठ शताब्दी पूर्व सेविधिवत काव्य-समीक्षा की शुरुआत प्लेटो से हुई।प्लेटो ने काव्य की सामाजिक उपादेयता का सिद्धांत प्रतिपादित किया। प्लेटो के सामाजिक उपादेयता का सिद्धांत