हिन्दी भाषा के मानकीकरण की दिशा में उठाये गए महत्वपूर्ण कदम

हिन्दी भाषा के मानकीकरण की दिशा में उठाये गए महत्वपूर्ण कदम

  (1) राजा शिवप्रसाद ‘सितारे-हिन्द’ ने क ख ग ज फ पाँच अरबी-फारसी ध्वनियों के लिए चिह्नों के नीचे नुक्ता लगाने का रिवाज आरंभ किया।

(2) भारतेन्दु हरिश्चन्द्र ने ‘हरिश्चन्द्र मैगजीन’ के जरिये खड़ी बोली को व्यावहारिक रूप प्रदान करने का प्रयास किया।

(3) अयोध्या प्रसाद खत्री ने प्रचलित हिन्दी को ‘ठेठ हिन्दी’ की संज्ञा दी और ठेठ हिन्दी का प्रचार किया। उन्होंने खड़ी बोली को पद्य की भाषा बनाने के लिए आंदोलन चलाया।

(4) हिन्दी भाषा के मानकीकरण की दृष्टि से द्विवेदी युग (1900-20) सर्वाधिक महत्वपूर्ण युग था। ‘सरस्वती’ पत्रिका के संपादक महावीर प्रसाद द्विवेदी ने खड़ी बोली के मानकीकरण का सवाल सक्रिय रूप से और एक आंदोलन के रूप में उठाया। युग निर्माता द्विवेदीजी ने ‘सरस्वती’ पत्रिका के जरिये खड़ी बोली हिन्दी के प्रत्येक अंग को गढ़ने-संवारने का कार्य खुद तो बहुत लगन से किया ही, साथ ही अन्य भाषा-साधकों को भी इस कार्य की ओर प्रवृत किया। द्विवेदीजी की प्रेरणा से कामता प्रसाद गुरु ने ‘हिन्दी व्याकरण’ के नाम से एक वृहद व्याकरण लिखा।

(5) छायावाद युग (1918-36) व छायावादोत्तर युग (1936 के बाद) में हिन्दी के मानकीकरण की दिशा में कोई आंदोलनात्मक प्रयास तो नहीं हुआ, किन्तु भाषा का मानक रूप अपने-आप स्पष्ट होता चला गया।

(6) स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद (1947 के बाद) हिन्दी के मानकीकरण पर नये सिरे से विचार-विमर्श शुरू किया क्योंकि संविधान ने इसे राजभाषा के पद पर प्रतिष्ठित किया जिससे हिन्दी पर बहुत बड़ा उत्तरदायित्व आ पड़ा। इस दिशा में दो संस्थाओं का विशेष योगदान रहा- इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग के माध्यम से ‘भारतीय हिन्दी परिषद’ का तथा शिक्षा मंत्रालय के अधीनस्थ कार्यालय केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय का।

भारतीय हिन्दी परिषद : 

भाषा के सर्वागीण मानकीकरण का प्रश्न सबसे पहले 1950 में इलाहाबाद विश्वविद्यालय के हिन्दी विभाग ने ही उठाया। डॉ० धीरेन्द्र वर्मा की अध्यक्षता में एक समिति गठित की गई जिसमें डॉ० हरदेव बाहरी, डॉ० ब्रजेश्वर शर्मा, डॉ० माता प्रसाद गुप्त आदि सदस्य थे। धीरेन्द्र वर्मा ने ‘देवनागरी लिपि चिह्नों में एकरूपता’, हरदेव बाहरी ने ‘वर्ण विन्यास की समस्या’, ब्रजेश्वर शर्मा ने ‘हिन्दी व्याकरण’ तथा माता प्रसाद गुप्त ने ‘हिन्दी शब्द-भंडार का स्थरीकरण’ विषय पर अपने प्रतिवेदन प्रस्तुत किए।

केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय : 

केन्द्रीय हिन्दी निदेशालय ने लिपि के मानकीकरण पर अधिक ध्यान दिया और ‘देवनागरी’ लिपि तथा हिन्दी वर्तनी का मानकीकरण (1983 ई०) का प्रकाशन किया।

प्रातिक्रिया दे