निबन्ध की शैली व विशेषताएँ

निबन्ध की शैली व विशेषताएँ

निबन्ध की शैली(ESSAY STYLE)

  • लिखने के लिए दो बातों की आवश्यकता है- भाव और भाषा।
  • भाव और भाषा को समन्वित करने के ढंग को ‘शैली’ कहते है।
  • अच्छी शैली वह है, जो पाठक को प्रभावित करे। यह पाठक को शब्दों की उलझन में नहीं डालती।

निबन्ध की विशेषताएँ(Essay Features)

निबन्ध की चार प्रमुख विशेषताएँ हैं-

  • (1) व्यक्तित्व का प्रकाशन
  • (2)संक्षिप्तता
  • (3)एकसूत्रता
  • (4)अन्विति का प्रभाव

(1)व्यक्तित्व का प्रकाशन :-

  •  निबन्ध में निबन्धकार अपने सहज स्वाभाविक रूप से पाठक के सामने प्रकट होता है।
  • वह पाठकों से मित्र की तरह खुलकर सहज संलाप करता है।

(2)संक्षिप्तता :-

  • निबन्ध जितना छोटा होता है, जितना अधिक गठा होता है।
  • शब्दों का व्यर्थ प्रयोग निबन्ध को निकृष्ट बनाता है।

(3)एकसूत्रता :-

  •  निबन्ध में निबन्धकार स्वयं को अभिव्यक्त करता है; साथ ही उसमें भावों का आवेग भी रहता है। इसका अर्थ कदापि नहीं होता कि निबन्धकार  अर्थहीन, भावहीन प्रलाप करें।

(4)अन्विति का प्रभाव :-

  • निबन्ध की अन्तिम विशेषता है- अन्विति का प्रभाव (Effect of Totality) ।
  • निबन्ध के प्रत्येक विचारचिन्तन, प्रत्येक भाव तथा प्रत्येक आवेग आपस में अन्वित होकर सम्पूर्णता के प्रभाव की सृष्टि करते हैं।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!