पाश्चात्य काव्यशास्त्र

हिन्दी काव्यशास्त्र

पाश्चात्य काव्यशास्त्र के वाद

पाश्चात्य काव्यशास्त्र के वाद अरस्तू का विरेचन सिद्धांत  अरस्तू के द्वारा प्रयुक्त शब्द कैथार्सिस का अर्थ है सफाई करना या अशुद्धियों को दूर करना, अतः कैथार्सिस का व्युत्पत्तिपरक अर्थ हुआ शुद्धिकरण। अरस्तू ने ‘विरेचन’ शब्द का ग्रहण चिकित्साशास्त्र से किया था, इस मत का प्रचार सं १८५७ में जर्मन विद्वान बार्नेज के एक निबंध से …

पाश्चात्य काव्यशास्त्र के वाद Read More »

हिन्दी काव्यशास्त्र

टी एस एलियट पाश्चात्य काव्यशास्त्री

टी एस एलियट की काव्य कृतियां: द वेस्टलैंड आपको वास्तविक ख्याति ‘द वेस्टलैंड’ (१९२२) द्वारा प्राप्त हुई। मुक्त छंद में लिखे तथा विभिन्न साहित्यिक संदर्भो एवं उद्धरणों से पूर्ण इस काव्य में समाज की तत्कालीन परिस्थिति का अत्यंत नैराश्यपूर्ण चित्र खींचा गया है। इसमें कवि ने जान बूझकर अनाकर्षक एवं कुरूप उपमानों का प्रयोग किया …

टी एस एलियट पाश्चात्य काव्यशास्त्री Read More »

पाश्चात्य काव्यशास्त्री और उनकी रचनायें

पाश्चात्य काव्यशास्त्री और उनकी रचनायें प्लेटो गणतन्त्र अरस्तु पोयटिक्स , पेरिपोइटिकेस लोंजाइन्स पेरिइप्सुस क्रोचे एस्थेटिक वड्सवर्थ लिरिकल बेलेडस, ऐन इवनिंग वॉक ऐंड डिस्क्रिप्ट स्केचेज,  द प्रिल्यूड सिमोन द बुआ द सेकंड सेक्स कॉलरिज– पोयम्स,द फ्रेंड,एड्स टू रिफ्लेक्शन,चर्च एंड स्टेट,कंफेशन् ऑफ़ एन इंक्वायरिंग स्पिरिट इलियट द वेस्टलैंड,ऐसेज एशेंट एंड मॉडर्न,द सेक्रेट वुड रिचर्ड्स बिर्योड,प्रिंसिपल ऑफ़ लिटरेरी …

पाश्चात्य काव्यशास्त्री और उनकी रचनायें Read More »

अनुकरण सिद्धांत विरेचन सिद्धांत अभिव्यंजनावाद

अनुकरण सिद्धांत विरेचन सिद्धांत अभिव्यंजनावाद 1. कला और साहित्य के संदर्भ में प्लेटो की मान्यताओं पर विचार कीजिए-1. वह आनंददायक हो2. वह सौन्दर्ययुक्त हो 3. वह उपयोगी हो4. वह सत्य, न्याय, और सदाचार की भावना को प्रतिष्ठित करने में सहायक होसही कथन है/हैं-A. सभी 1, 2, 3, 4B. केवल 1, 3, 4C. केवल  2, 3, …

अनुकरण सिद्धांत विरेचन सिद्धांत अभिव्यंजनावाद Read More »

हिन्दी काव्यशास्त्र

पाश्चात्य काव्यशास्त्र प्रश्नोत्तरी

पाश्चात्य काव्यशास्त्र प्रश्नोत्तरी प्लेटो का समय है -427-347 ई.पूर्व प्लेटो का जन्म हुआ था?– एथेंस में प्लेटो का मूल नाम था? -रिस्तोक्लीस (प्लेटो अंग्रेजी नाम # अफलातून अरबी नाम #प्लातोन गुरु प्रदत्त नाम) प्लेटों किस प्रकार के दार्शनिक थे?– प्रत्ययवादी प्लेटो ने काव्यहेतु स्वीकार किया है? ईश्वरीय उन्मांद को प्लेटो ने अपने किस ग्रन्थ मे …

पाश्चात्य काव्यशास्त्र प्रश्नोत्तरी Read More »

error: Content is protected !!