हिन्दी के जीवनीपरक उपन्यास

Hindi Upnyaas

हिन्दी के जीवनीपरक उपन्यास ‘भारती का सपूत’— डॉ. रांगेय राघव (भारतेन्दु हरिश्चन्द्र पर, हिन्दी में प्रथम जीवनीपरक उपन्यास, 1954, प्रथम संस्करण),  ‘रत्ना की बात’ — डॉ. रांगेय राघव (तुलसी के जीवन पर, 1957, द्वितीय संस्करण)  ‘लोई का ताना’— डॉ. रांगेय राघव (कबीर के जीवन पर, 1954) ‘मानस का हंस’— अमृतलाल नागर (तुलसीदास के जीवन पर, … Read more

हिन्दी साहित्य में प्रमुख जीवनी (Biography) व उनके जीवनीकार

हिन्दी साहित्य में प्रमुख जीवनी (Biography) व उनके जीवनीकार इस प्रकार हैं :- नाभा दास- भक्तमाल (1585 ई०) गोसाई गोकुलनाथ –चौरासी वैष्णवन की वार्ता, दो सौ बावन वैष्णवन की वार्ता (17 वीं सदी ई०) गोपाल शर्मा शास्त्री -दयानंद दिग्विजय (1881 ई०) रमाशंकर व्यास –नेपोलियन बोनापार्ट का जीवन चरित्र (1883 ई०) देवी प्रसाद मुंसिफ -महाराजा मान … Read more

error: Content is protected !!