चंदबरदाई का साहित्यिक परिचय

चंदबरदाई का साहित्यिक परिचय:

  • जन्म – संवत 1205 तदनुसार 1148 ईस्वी में।             
  • मृत्यु – संवत 1249 तदनुसार 1191 ईस्वी में। 
CHANDVARDAI

रचनाएँ –

” पृथ्वीराज रासो ” – दो भागों में नागरी प्रचारिणी सभा द्वारा प्रकाशित। 

चंदबरदाई को हिंदी का पहला कवि और उनकी रचना पृथ्वीराज रासो को हिंदी की पहली रचना होने का सम्मान प्राप्त है। पृथ्वीराज रासो हिंदी का सबसे बड़ा काव्य-ग्रंथ है।

वे भारत के अंतिम हिंदू सम्राट पृथ्वीराज चौहान तृतीय के मित्र तथा राजकवि थे। पृथ्वीराज ने 1165 से 1192 तक अजमेर व दिल्ली पर राज किया। यही चंदबरदाई का रचनाकाल था। 

रासो के अनुसार जब शाहाबुद्दीन गोरी पृथ्वीराज को कैद करके ग़ज़नी ले गया, तब कुछ दिनों पीछे चंद भी वहीं गए। जाते समय कवि ने अपने पुत्र जल्हण के हाथ में रासो की पुस्तक देकर उसे पूर्ण करने का संकेत किया। जल्हण के हाथ में रासो को सौंपे जाने और उसके पूरे किए जाने का उल्लेख रासो में है –                                

पुस्तक जल्हण हत्थ दै चलि गज्जन नृपकाज । 

रघुनाथनचरित हनुमंतकृत भूप भोज उद्धरिय जिमि । 

पृथिराजसुजस कवि चंद कृत चंदनंद उद्धरिय तिमि ।।

  एक उत्तम कवि होने के साथ, वह एक कुशल योद्धा और राजनायक भी थे। वह पृथ्वीराज चौहान के अभिन्न मित्र थे।

प्रातिक्रिया दे