रसखान का साहित्यिक परिचय

hindi sahitykar ka parichay

रसखान का साहित्यिक परिचय भक्ति काल के एक प्रमुख हस्ताक्षर सैय्यद इब्राहीम “रसखान” को ‘रस की खान’ कहा जाता है। इनके काव्य में भक्ति, श्रृंगार रस दोनों प्रधानता से मिलते हैं।  रसखान का जन्म उपलब्ध स्रोतों के अनुसार सन् 1533 से 1558 के बीच का माना जाता है। अकबर का राज्यकाल 1556-1605 है, ये लगभग … Read more

error: Content is protected !!