प्रगतिवादी कवियों की महत्वपूर्ण काव्य पंक्तियाँ

(क) केदारनाथ अग्रवाल (1) धूप चमकती है चाँदी की साड़ी पहने मैके में आयी बेटी की तरह मगन है। (2) एक बीते के बराबर, यह हरा ठिगना चना बांधे मुरैठा…

0 Comments

प्रगतिवाद (1936 से 1942 ई० )

प्रगतिवाद (1936 से 1942 ई० ) → लखनऊ में अप्रैल, 1936 ई० में 'प्रगतिशील लेखक संघ' की स्थापना और प्रथम अधिवेशन के समय से हिन्दी में प्रगतिवादी आन्दोलन की शुरुआत…

0 Comments