Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

Browsing Tag

सिद्ध साहित्य

सिद्ध-साहित्य की सामान्य प्रवृत्तियाँ

सिद्ध-साहित्य की सामान्य प्रवृत्तियाँ सिद्ध-साहित्य की सामान्य प्रवृत्तियाँ इस प्रकार है :- १) जीवन की सहजता और स्वाभाविकता मे दृढ विश्वास :- सिद्ध कवियों ने जीवन की सहजता और स्वाभाविकता में दृढविश्वास व्यक्त किया है। अन्य धर्म

हिंदी साहित्य का सिद्ध साहित्य

हिंदी साहित्य का सिद्ध साहित्य बौद्धधर्म विकृत होकर वज्रयान संप्रदाय के रूप में देश के पूरबी भागो में बहुत दिनों से चला आ रहा था । इन बौद्ध तान्त्रिको के बीच वामाचार अपनी चरम सीमा को पहुँचा। ये बिहार से लेकर आसाम तक फैले थे और सिद्ध