Sahity.in से जुड़ें @WhatsApp @Telegram @ Facebook @ Twitter

Browsing Tag

प्रयोगवाद

प्रयोगवाद की विशेषताएं

प्रयोगवाद की विशेषताएं 'प्रयोगवाद' नाम उन कविताओं के लिए है जो कुछ नये बोधों, संवेदनाओं तथा उन्हें प्रेषित करनेवाले शिल्पगत चमत्कारों को लेकर शुरू-शुरू में 'तार सप्तक' के माध्यम से वर्ष 1943 ई० में प्रकाशन जगत में आई .बाद में प्रगतिशील

हिंदी साहित्य का प्रयोगवाद

प्रयोगवाद (1943 ई० से......) 'प्रयोगवाद' 'तार सप्तक' के माध्यम से वर्ष 1943 ई० में प्रकाशन जगत में आई और जो प्रगतिशील कविताओं के साथ विकसित होती गयी तथा जिनका पर्यावसान 'नयी कविता' में हो गया। कविताओं को सबसे पहले नंद दुलारे