Browsing Tag

इतिहास

इतिहास के स्रोत कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 1

इतिहास के स्रोत कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 1 इतिहास जानने के कई तरीके या स्रोत हैं जैसे-पुराने ग्रंथ, शिलालेख, खुदाई से प्राप्त अवशेष, स्मारक, भवन, बर्तन, औजार, हथियार, चित्र, सिक्के, एवं यात्रा संस्मरण । छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में स्थित कबरा पहाड़ी और सिंघनपुर की गुफाओं में बने शैलचित्र आदिमानव काल के हैं। जब मनुष्य
Read More...

आदिमानव कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 2

आदिमानव कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान स्मरणीय बिन्दु 1. आदिमानव एक स्थान से दूसरे स्थान तक भोजन की तलाश में घूमते रहते थे, उनका जीवन घुमक्कड़ था। इसलिए इन्हें खानाबदोश कहते हैं 2. पत्थर को पाषाण कहते हैं, क्योंकि इस युग में पत्थरों का प्रयोग किया जाता था, इसलिए इसे पाषाण युग कहते हैं। 3. पाषाण युग के नुकीले व धारदार हथियारों व औजारों को
Read More...

सिन्धु घाटी की सभ्यता कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 3

सिन्धु घाटी की सभ्यता कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान स्मरणीय बिन्दु 1. सभ्यता ऐसे समाज को कहते हैं, जो शहरी हो और जो एक बड़े क्षेत्र में फैला हो। 2. सिन्धु घाटी सभ्यता की खोज सन् 1921 में हुई। 3. आज से लगभग 80-85 साल पहले सिन्धु नदी के किनारे दो बड़े शहरों की चीजें मिट्टी के टीलों के नीचे दबी हुई मिलीं। ये शहर थे- 'हड़प्पा और
Read More...

वैदिक काल कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 4

वैदिक काल कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान स्मरणीय बिन्दु 1. वेदों की संख्या चार है— ऋग्वेद, यजुर्वेद, सामवेद और अथर्ववेद । 2. ऋग्वेद विश्व का सबसे प्राचीनतम ग्रंथ है। 3. सप्त सिन्धु का अर्थ है-सात नदियाँ, जो सिन्धु नदी और उनकी सहायक नदियों का क्षेत्र हैं। 4. समाज ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य और शूद्र इन चार वर्गों में कर्म के अनुसार
Read More...

नवीन धार्मिक विचारों का उदय कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 6

नवीन धार्मिक विचारों का उदय कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान स्मरणीय बिन्दु 1. ईसा की छठवां सदी पूर्व उत्तरी भारत में दो नवीन धर्मों-जैन धर्म और बौद्ध धर्म का उदय हुआ। 2. जैन धर्म के महापुरूषों को तीर्थंकर कहा जाता है। 3. जैन धर्म के संस्थापक स्वामी महावीर हैं, जो अन्तिम तीर्थंकर (24 वें तीर्थंकर) माने जाते 4. सम्यक ज्ञान, सम्यक दर्शन,
Read More...

गुप्त काल कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 9

गुप्त काल कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (300 से 500 ईस्वी) स्मरणीय बिन्दु 1. लगभग 200 साल तक गुप्त राजवंश का शासन रहा, जिसे भारतीय इतिहास का स्वर्ण युग कहा जाता है। 2. इस काल में छत्तीसगढ़ को दक्षिण कोसल के नाम से जाना जाता था। इसके अन्तर्गत बिलासपुर, रायपुर, दुर्ग, राजनांदगाँव और उड़ीसा राज्य के संबलपुर जिले आते थे। 3.
Read More...

विदेशों से व्यापार और संपर्क कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) ) अध्याय 8

विदेशों से व्यापार और संपर्क कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (ईसा पूर्व 100 से 300 ईस्वी) स्मरणीय बिन्दु आज ईसा के जन्म से पहले की घटनाओं को ईसा पूर्व (ई. पू. B.C.) में और बाद की घटनाओं को ईसवी सन् (ई. A.D.) में व्यक्त अशोक के समय में अपने देश में बड़े-बड़े व्यापारी होते थे। उन्हें 'श्रेष्ठी' या 'सेट्ठी' कहा जाता था। इसी शब्द से 'सेठ' शब्द
Read More...

मौर्य वंश और राजा अशोक कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 7

मौर्य वंश और राजा अशोक कक्षा 6 वीं सामाजिक विज्ञान स्मरणीय बिन्दु 1. मौर्य वंश की स्थापना चन्द्रगुप्त मौर्य ने अपने गुरु और मंत्री चाणक्य (कौटिल्य) के सहयोग से की थी। 2. मैगस्थनीज की 'इण्डिका' पुस्तक से मौर्यकालीन शासन व्यवस्था की व्यवस्थित जानकारी मिलती है। 3. पिता की मृत्यु के चार वर्ष बाद 269 ई.पू. में अशोक राजगद्दी पर बैठा। 4.
Read More...

इतिहास के स्रोत कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान (इतिहास) अध्याय 1

इतिहास के स्रोत कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान (इतिहास) स्मरणीय बिन्दु 1. इतिहास यानि पुरानी बातें। प्राचीन काल में घटित घटनाओं को जानने को ही इतिहास कहते हैं। 2. पत्थरों की शिलाओं पर खोदकर लिखी गई बातों को शिलालेख कहते हैं। 3. पत्थर, लोहे या काष्ठ के स्तंभों (खंभों) पर लिखी गई बातों को स्तंभलेख कहते हैं। 4. विशेष प्रकार के पत्रों पर रंग
Read More...

मुगलकालीन विरोध और विद्रोह का समय कक्षा 7 सामाजिक विज्ञान (इतिहास)

मुगलकालीन विरोध और विद्रोह का समय याद रखने योग्य बातें मुगलकाल में भारत पूरी दुनिया में एक सम्पन्न देश के रूप में प्रसिद्ध था। इसी सम्पन्नता से आकर्षित होकर विश्व के अनेक देशों के लोग व्यापार के लिए आए।मुगल दरबार में शासन का सर्वोच्च बादशाह होता था। मुगल दरबार मुगलकालीन विरोध और विद्रोह का समय राजा के दरबार में ऊँचे पदों में आसीन लोगों
Read More...
error: Content is protected !!