हिन्दी साहित्य में प्रमुख आत्मकथा (Autobiography in HINDI SAHITYA)

मौलिक आत्मकथाएं अर्द्धकथानक (1641 ई०) -बनारसीदास जैन स्वरचित आत्मचरित (1879 ई०) -दयानंद सरस्वती मुझमें देव जीवन का विकास (1909 ई०) -सत्यानंद अग्निहोत्री मेरे जीवन के अनुभव (1914 ई०) -संत राय फिजी द्वीप में मेरे इक्कीस वर्ष (1914 ई०)– तोताराम सनाढय मेरा संक्षिप्त जीवन चरित्र-मेरा लिखित (1920 ई०)- राधाचरण गोस्वामी आपबीता : काले पानी के कारावास … Read more

error: Content is protected !!