hindi sahitykar ka parichay

हरिकृष्ण प्रेमी का साहित्यिक परिचय

प्रेम की अतृप्त तृष्णा ने हरिकृष्ण प्रेमी को स्वयं ‘प्रेमी’ बना दिया। बंधु-बांधवों के प्रति स्नेहालु, मित्रों के प्रति अनुरक्त, स्वदेशानुराग, मनुष्य मात्र के प्रति सौहाएद-यही उनके अंतर मन का विकास है। हरिकृष्ण प्रेमी का साहित्यिक जीवन परिचय हरिकृष्ण ‘प्रेमी’ का जन्म 1908 ई. को गुना, ग्वालियर, मध्य प्रदेश में हुआ था। इनका परिवार राष्ट्रभक्त …

हरिकृष्ण प्रेमी का साहित्यिक परिचय Read More »