भारतीय काव्यशास्त्र नोट्स

भारतीय काव्यशास्त्र नोट्स ◼अलंकार-सम्प्रदाय के प्रवर्तक है? भामह (समय-छठी शती का मध्यकाल) ◼आचार्य भामह, उद्भट और रूद्रट। किस सम्प्रदाय के प्रमुख आचार्य है? अलंकार सम्प्रदाय ◼रीति सम्प्रदाय के प्रवर्तक आचार्य है? आ.वामन( समय8वीं शती का उत्तरार्द्ध) ◼आचार्य दण्डी और वामन किस सम्प्रदाय के प्रमुख आचार्य है? रीति सम्प्रदाय ◼रीति को काव्य की आत्मा मानने वाले-रीतिवादी … Read more

भारतीय संस्कृत काव्यशास्त्र ग्रन्थ

हिन्दी काव्यशास्त्र

भारतीय संस्कृत काव्यशास्त्र ग्रन्थ नाट्यशास्त्र (भरतमुनि, 2वीं सदी)                                   नाटकों के संबंध में शास्त्रीय जानकारी को नाट्यशास्त्र कहते हैं। इस जानकारी का सबसे पुराना ग्रंथ भी नाट्यशास्त्र के नाम से जाना जाता है जिसके रचयिता भरत मुनि थे। भरत मुनि का जीवनकाल ४०० ईसापूर्व से १०० ई के मध्य किसी समय माना जाता है। काव्यालंकार (भामह, … Read more

भारतीय काव्यशास्त्र वस्तुनिष्ठ प्रश्न

भारतीय काव्यशास्त्र वस्तुनिष्ठ प्रश्न वास्तविक काव्यलक्षण का प्रारंभ किस आचार्य से होता है जिन्होंने शब्द और अर्थ के सहभाव (शब्दार्थोसहितौ काव्यम ) को काव्य की संज्ञा दी है – भामह से शब्द अर्थ संगम सहित भरे चमत्कृत भाय। जग अद्भुत में अद्भुतहिँ , सुखदा काव्य बनाए ॥पंक्ति है – ग्वाल कवि (रसिकानंद) प्रतिभा के दो भेद (सहजा … Read more

error: Content is protected !!