Class-5-Hindi

सुनिता की पहिया कुर्सी(कहानी) कक्षा 5 हिन्दी

सुनिता की पहिया कुर्सी (कहानी)

सुनीता सुबह सात बजे सोकर उठी। कुछ देर तो वह अपने बिस्तर पर ही बैठी रही। वह सोच रही थी कि आज उसे क्या-क्या काम करने हैं। उसे याद आया कि आज तो बाजार जाना है सोचते ही उसकी आँखों में चमक आ गई। सुनीता आज पहली बार अकेले बाजार जाने वाली थी।

सुनिता की पहिया कुर्सी(कहानी) कक्षा 5 हिन्दी - UGVuxgBuLPpnySws5sT7WSMWG1mhIfOLqorKCnjMJbrW80j9UGkZD71f587JdncoiGjwMi6Ppk97AK5MLt R3GXtHj9sMwzMew5zO4CG8hvoYqqKYJb6Rl5shC5ZBIDAoCNW8tywe Qa14Prik57GpI30cKIdagFfjU13vsATgpal mwNnEYGvwFvWHErh4kuDW2j0KbkQ1Ezm cpJr iYnOei FPRbkzEGyGZePO3HbpsvCmwvBls9sTmoCCwcuyNMKgJniANHQ3NgUMaE41yY49sVTr71K960Y0ZPm2GY39mFwYunBtH1wNd iDY 8 Squz3OxtJxNsPKR7sh7MeNuiLc khHcjintTczIwE0K 5bOaM7Pvp0vYGesQQm1xztog l80jp0epl6Ek4Lsnecd4HJaytmVK1Nyh2yRznZ4roMBcNBZhtsZm43GiuFl DoxJIQCfNMjiFSZCMPWBdRTYaeOn48JyVFb9T6YNtw8lc0hW2E QL7rALl4gJqiLTvDPw88G5K1R83VU0yHJSIKoGv3IZ1XEENHD0HzBpUgok3R2DJbX3Zg WiztEjsEdQ 857t1w1oHFGKho M6qh1awHCZZVNeM HA3jG0poR LawCCMe9ZhX0zNDCE8cNAG VMlbYSTLUfhvFS2K8TUbHMqDsAeWyRk YpWk11HijmgjB LzDMBOYuil5OPCA7vUHDN1bQ1MWcs1lRVPmQOscC YI2rgmzpIJNHdtDpODKPI8Ng8qbEfIrBtNdVcKz6Q5PZ31eJ8mIXKYmqOSiVBF1b1fqvNkLL6A0hDaoDKqabAXLaUIIPMpDVTMEeOy8uztJ648gtnNeB1kNDFkn6gVsou f2BGsD1XfkyEU3GBsFz1wDSrwhZOYCxLieUYVCg4d5ImAn2aoNQiG5sOLCpphdOCNsnVfC00OOfgij=w694 h292 no?authuser=0 - हिन्दी माध्यम में नोट्स संग्रह

लटकाया। फिर पलंग का सहारा लेती हुई अपनी पहिया कुर्सी तक बढ़ी।

सुनीता चलने-फिरने के लिए पहिया कुर्सी की मदद लेती है। आज वह उसने अपनी टाँगों को हाथ से पकड़ कर खींचा और उन्हें पलंग से नीचे की ओर पहनना आदि उसके लिए कठिन काम हैं। पर अपने रोजाना के काम करने सभी काम फुर्ती से निपटाना चाहती थी। हालाँकि कपड़े बदलना, जूते के लिए उसने स्वयं ही कई निकाले हैं।

तरीके ढूँड आठ बजे तक नहा-धो कर तैयार हो गई।

माँ ने मेज पर नाश्ता लगा दिया था। “माँ अचार की बोतल पकड़ाना, सुनीता ने कहा। “अल्मारी में रखी है। ले लो, माँ ने रसोईघर से जवाब दिया।

सुनिता की पहिया कुर्सी(कहानी) कक्षा 5 हिन्दी - 80bT7C PHfTuyTBLskJ3P63YokRrqvcLTLa Erubr LNQX4cWCh5NEGpZoqDbQ2l6rmqx39N5VIg6ytQRQAfLI3vmzL53 ZK7ESYkSjDpN wyjFcL9LP VN9H5X93O7mWUFzHhPMeO9AXTK1mrZaFGzITJd0H 9NyQi8peHQ55PikTdu3QNlEnd7eNeLzmhGvxmZ2jeTPJ2clDoWhtsiwELJqof1i0jy0DSnTJ4YJBY4CpZXghMVJNz1BpQ8JCNohE9BcNmOWp0OKwuyBGKxHHahBBqJjZxywE9TzLEK7lofDAvfxvZvU 1JEJl41usSChpBa86P5NnjkNL2Wvxo1buHDnMxNpN 0Y yYT0cPK548pYwmfjnSMSwRBbbbNyPbbn204EUdD5F7Cq YuhSVseDiU DxhO yUc2 W qNIdpe8nKoNV7k5R7yd2sZEYCJId AS 99ZZn23ejCz51r8QC6aOtxdf5ZzNG RR8xM9wl0 PdEZXuXmdw1Hi r8xmZJr4j7Z d8G4amj7hqreWWWN6x5Aq66nI29X nQlKPkI8rETkjxqAkjyrdEtrYBUdex28teeFBUo2G9hzwVMkt1m8ei9Kuzuu2f FLi3pQPmFMFLPLdYTIijwIBEBtRSpCKAe2fTxYsGpxhMR6fTa31H2VOXMzqrNn I1alj96TC 3BkmbkdoxNBElzXatzh2k vAmcarmXua F5OOaGvHoqRsau0eOhRqg14zI2hzoA0jR9f8pHSr7b FDFSgoC1zozOx3ROFZJzvSysNEmquj7Y2WLXXKjWIjbIbnvdAZgJ33g3HsCcW aB2bWmRjN puECUjCscZbxDrjnfQGiJKPBDncIbkiPEk11F2LD73o7nHUzRGyD0jZaoenTEfmqS6zj2 R7VSjlPFpSJCvcXHBkykVI7KHhcM7Jg3OHuw=w149 h274 no?authuser=0 - हिन्दी माध्यम में नोट्स संग्रह

सुनीता खुद जाकर अचार ले आई। नाश्ता करते-करते उसने पूछा, “माँ, बाजार से क्या-क्या लाना है?

“एक किलो चीनी लानी है। पर क्या तुम अकेले सँभाल लोगी?”

“पक्का” सुनीता ने मुस्कुराते हुए कहा । सुनीता ने माँ से झोला और रूपए लिए अपनी पहिया कुर्सी पर बैठकर वह बाजार की ओर चल दी। सुनीता को सड़क की जिंदगी देखने में मजा आता है। चूँकि आज छुट्टी है इसलिए हर जगह बच्चे खेलते हुए दिखाई दे रहे हैं सुनीता थोड़ी देर रुक कर उन्हें रस्सी कूदते, गेंद खेलते देखती रही। वह थोड़ी उदास हो गई। वह भी उन बच्चों के साथ खेलना चाहती थी। खेल के मैदान में उसे एक लड़की दिखी, जिसकी माँ उसे वापिस लेने के लिए आई थी दोनों एक-दूसरे को टुकुर-टुकुर देखने लगे।

सुनिता की पहिया कुर्सी(कहानी) कक्षा 5 हिन्दी - tmQbzso1Eno7j7sd SJlcLZKyGJusaHJ W6gmF2Gwmsysxnj7oV1bXaleZksh8tBme6hW 9X aUS6H vnAjxcLdDv7OmdgFIlt4wvG4Wy 0zAX Vl4i uCdkg6MwLGpq9lFYwRK8I91NyB16K0COQGuXVGAqn9Y0UhoW42G6Gi9lbXldA8GjYEhs7F9y169 1uUufBLRgwF8v7GjqyZqUq4OTVEmGpyP1Xwm3kTvSZ0a8m2YTpSc64MdJU67yKk8Op8BylSyhjM0Kp1rskZ6ehDCRPnhwhWwQ0tTFUmBwOQ1N7WwKxvHiYFK0FncNR0fVMZogeF 8AvTrEeMcWvuP3NapP02U2d2LbVZHDrJwLakFm2UTYc1sb rETPzb2r2zmNuzoyLIhWAP oEcP 3a0hmmRj5AzDZeKOBxjGkGLDr hJx8M9zJC1ioOCLWpz5kRtcb9swBTYG03R N0hJr00i3jleTzfcsBASTydvqOPdRvLdQSQ9Mle 4mT Lq7U 82Hv0y53HoJcmwjKvvwZMUkebZkh7qKdHSoGyQeVhTmObJxdnLTJQtXMY9yKiKOa2MnlP yggecuXDh3hHxt bistkCDUELnkC3NqtUDuSJZXx9NV7hMIb9O9 g958CbtqukHO4esHeQcwVGyfcSjPoSryoc4Qbh Rx84rJw 2EdUip7jYbdP2ewyQ fL4TpQBDtNF1PFPT44kDO9Vq94q3hFnD8Set m8eNQ6XOXXqUQY4DMMIdKbqYkeQotle9Okm3DerFW8kufz3cpcBWQxBzBUUsD0000MgoYuOz7tZDKeAQgSDakVvf 3WgGJTPV0dDL8EY9pc5z8w4DoasibfA6CsOzeCmPHXwxL59 hqDIN7STiNL VO9r6F7e7do4PsG5c0a8FM9UziwDy3O6M0wrP84 oGg33A 1S K4jM=w272 h274 no?authuser=0 - हिन्दी माध्यम में नोट्स संग्रह

फिर सुनीता को एक लड़का दिखा। उस बच्चे को बहुत सारे बच्चे छोटे-छोटू बुलाकर चिढ़ा रहे थे। उस लड़के का कद बाकी बच्चों से बहुत यह सब बिल्कुल अच्छा नहीं लगा । छोटा था। सुनीता को रास्ते में कई लोग सुनीता को देखकर मुस्कुराए,जबकि वह उन्हें जानती तक नहीं थी। पहले तो वह मन ही मन खुश हुई परंतु फिर सोचने लगी, ” ये सब लोग मेरी तरफ भला इस तरह क्यों देख रहे हैं? खेल के मैदान वाली छोटी लड़की सुनीता को दोबारा कपड़ों की दुकान के सामने खड़ी मिली। उसकी माँ कुछ कपड़े देख रही थी। “तुम्हारे पास यह अजीब सी चीज क्या है?” उस लड़की ने सुनीता से पूछा। लड़की को सुनीता से दूर हटा दिया।

यह तो बस एक सुनीता जवाब देने लगी परंतु उस लड़की की माँ ने गुस्से में आकर “इस तरह का सवाल नहीं पूछना चाहिए फरीदा अच्छा नहीं लगता।” माँ ने कहा ।

“मैं दूसरे बच्चों से अलग नहीं हूँ” सुनीता ने दुखी होकर कहा उसे फरीदा की माँ का व्यवहार समझ में नहीं आया। अंत में सुनीता बाजार पहुँच गई। दुकान में घुसने के लिए उसे सीढ़ियों पर चढ़ना था । उसके लिए यह कर पाना बहुत मुश्किल था। आसपास कि सब लोग जल्दी में थे। किसी ने उसकी तरफ ध्यान नहीं दिया।

अचानक जिस लड़के को “छोटू” कहकर चिढ़ाया या रहा था वह उसके सामने आकर खड़ा हो गया।

“मैं अमित हँ” उसने अपना परिचय दिया, क्या मैं तुम्हारी कुछ मदद करूँ?” “मेरा नाम सुनीता है”, सुनीता ने राहत की साँस ली और मुस्कुराकर बोली,” पीछे के पैडिल को पैर से जरा दबाओगे?” “हाँ, हाँ जरूर कहते हुए अमित ने पहिया कुर्सी को टेढ़ा करके उसके अगले पहियों को पहली सीढ़ी पर रखा। फिर उसने पिछले पहियों को भी ऊपर चढ़ाया। सुनीता ने अमित को धन्यवाद दिया और कहा,” अब मैं दुकान तक खुद पहुँच सकती हूँ।”

सुनिता की पहिया कुर्सी(कहानी) कक्षा 5 हिन्दी - 6tws7by2AJqJ9L2vzpPrgwNmqHSLAXhutRMUHcnrXs 6XTKD4IZLURypXrlthGkWY0Dy5efXQJWABwdjdVZWf0Y9UorZGKoFEUTUxz GsOyT 3XXUjy2WM6JSmci4T0xaL4J01bOsvw8WgbyYesgFtp1c 8R5IqxWAt0rh0gP4c6s6FSs9K6f4TNiKx W0izr9vZVYnYg7hY9l1JABSBHuTNaogCPNBRGcI1nTaCgSR18ropbtgGWVd5mcJ6xFQOwav8 b zOIgEWOngF6hkagbM HYs2ozdMXW6S o5QwAQRMnrVtf cJZg69fax8B7vChpmB6aKSHb2cipzezUpUM L5K1C6tQah1hDdZTL3c8K9T2vF0PcRjonypbWZ44Qsocqh9TNmFwaPvuuLrGpsxLbyf4zQOqdDq5GM4K6a1p8KadgwtuniKPK2W5fFVAH338gs3n VJbjVb4usp28Pn CB f KqzBVNUY8p7c2 azAj71F4INziO4qtmX4WSImqdSldhqHUyxewj6krWdXhO2NtVqtcPQXMm7SC2FQBJyPQqFletHNf9bzZQ GaEiGenU8WMVYOmuC4LoAUX1fII4n b6P6QvxROxgN7xSdPdHUVtnY907g qgzgsi HHrhoL0fE16eqg3fLrC0VT95KPA7b 7ZHUKJl0ouI3F SZWist5 e3izrGEPdDJ1x8L6IJH1izujqvp5M77f6O7scHNdbyYXGXJtTlBibLttxBmnBbQ38QyGxcNG9S1UypdVXo3LPY1 J IkmX ZS4QCvVhxaVgHdSptCMbQGWlDbydwqW21sVmoU1oxcnRMIiviQtf YwXX0DLu8hV1EPiA6RB5RxfQ5wXd1lr1cllRWG EgtRooncX95pVwW3xpJ5sVul6mSetCgzkP LMZu qFMFm27GyJltXPAFvaB1Gs=w392 h369 no?authuser=0 - हिन्दी माध्यम में नोट्स संग्रह

मिठाइयों की दुकान में पहुँचकर सुनीता ने एक किलो चीनी माँगी। दुकानदार उसे देखकर मुस्कराया। चीनी की थैली पकड़ने के लिए उसने हाथ आगे बढ़ाया ही था कि दुकानदार ने थैली उसकी गोदी में रख दी। सुनीता ने गुस्से से कहा” मैं भी दूसरों की तरह खुद अपने आप सामान सकती हूँ।”

उसे दुकानदार का व्यवहार बिल्कुल अच्छा नहीं लगा। चीनी लेकर सुनीता और अमित बाहर निकले।

“लोग मेरे साथ ऐसा व्यवहार करते हैं जैसे कि मैं कोई अजीबोगरीब लड़की हूँ।” सुनीता ने कहा ।
“शायद तुम्हारी पहिया कुर्सी के कारण ही वे ऐसा व्यवहार करते हैं।” अमित ने कहा । “मैं पैरों से चल ही नहीं सकती। इस पहिया कुर्सी के पहियों को घुमाकर ही मैं चल-फिर पाती हूँ लेकिन फिर भी मैं दूसरे बच्चों से अलग नहीं हूँ। मैं वे सारे काम कर सकती हूँ जो दूसरे बच्चे कर सकते हैं” सुनीता ने कहा ।

सुनिता की पहिया कुर्सी(कहानी) कक्षा 5 हिन्दी - gIF 9QuuVPQhdjzWGWUo qTrGV2pO OX02scm9E8feIE29Cw04vJ7gMrlDKFkeGIDT loos Oi ckQB3NzxmUwYCT9AaBObMkf9ym7ogSLe5ouK1DsJZEbyamCDnrSWQ0vBwyeuKy6WBUbQCE4GqXoP5fM2nc 0O XPjXPMqLMXOIelN2KxZ9UGc WvMKKKxMzNNQNY SlVVerdW2VpMAB1DfNLaDOfGrdNm08aZjv3MpT3vogXmR36XFIh1a1z9ASy8CA nEmS0sCyxqz0PkaKNWzLZaLAy6QplTOxP3DUdzSYGQZBEUeCEhxVkn4epEtHv59xdmtUteKo6taf4l71x 4RHGpzviYQsi2zXHDDh2YjALRQyUuTbgpXou 21UT4W6HASbrD7Y NzWCbv1CF5BecvDKDWrYdXAIVE4iRFm1c3XIwfu6pf3LZXXFNySaFBj aSFQBw6v20t6iJigiZNIGnx5pjPKcs92VKWXfjazqQ4Bk1uVs9B3fB5bGn3b5hTxR106QxffIn6c4 CpGkaDbC9xeRkHBvskoBEiVw2mWKs5JbGBvNB84WW35jP5rQ9CsVRsYE8KhEkcZGWQMXijsyAbq2PA BCsKq2Whws9yzLOHHV4ChquRWhIPr5benY xI5nSMLuZMVPgrZTlXxkjrHlvSohPxj9FPET mIXwDTjo9HnR3P6h0OcGV ewEPJuCqDqSL veQdbRlHvmrke3 HBRD96S4mmSOnMRTGTJCXSZ nbs8T vY v4DNlE3gBscHayHbUh0e0svO5W4sABovJs1LD7y vlMhVuZF2vKbc1nnjYOL 7rumBsRfABO91lrA ScQ6P4j6uEcflnBKY10nfbGgE8NFOQoEyXvjXnwln2ux4Co8kfmW T 5GVcs0VRW EbP9sz6i4OdccC9zRjIoxycCk9UtkV1=w659 h268 no?authuser=0 - हिन्दी माध्यम में नोट्स संग्रह

अमित ने अपना सिर ना में हिलाया और कहा, ” मैं भी वे सारे काम कर सकता हूँ जो दूसरे बच्चे कर सकते हैं। पर मैं भी दूसरे बच्चों से अलग हूँ। इसी तरह तुम भी अलग हो ।” सुनीता ने कहा, ” नहीं! हम दोनों दूसरे बच्चों जैसे ही हैं। “

अमित ने दोबारा अपना सिर ना में हिलाया और कहा, ” देखो तुम पहिया कुर्सी पर बैठकर चलती हो । मेरा कद बहुत छोटा है। हम दोनों ही बाकी लोगों से कुछ अलग है। ” सुनीता कुछ सोचने लगी। उसने अपनी पहिया कुर्सी आगे की ओर खिसकाई। अमित भी उसके साथ-साथ चलने लगा।

सड़क पार करते समय सुनीता को फरीदा फिर नजर आई। इस बार फरीदा ने कोई सवाल नहीं पूछा। अमित झट से सुनीता की पहिया कुर्सी के पीछे चढ़ गया। फिर दोनों पहिया – कुर्सी पर सवार होकर तेजी से सड़क पर आगे बढ़े। फरीदा भी उनके साथ-साथ दौड़ी। इस बार भी लोगों ने उन्हें घूरा परन्तु अब सुनीता को उनकी परवाह नहीं थी।

सुनिता की पहिया कुर्सी(कहानी) कक्षा 5 हिन्दी - tZOFDF6geKlNS uEK2 xyPUZ7EUBeuWECKSZsNSbdrd9ASJnFArN18z5pvbFw2K421Ctno8s6NVVXwvTb2q9Sch2wiLiQy7hINwilcjH3FRxUOq6O31vVjYswMMEYL i53Uk2qFyLav4eAuk1JbogZ8ZrbFW4JOpCv6V yGr8l WmbUcXf2ovA82TR1WM8OM9R lcSLIWXECdCnqHw5HTRwARzXO5I 1v1iYHuCZOC6YfOei4zE WUK3D3CnmOHuxvPPnXuHdIJBm6cb6RZ1flWq zcJPJg 6jNnvO2iwYz4WucdFYNudvxK3Bdh3to0DpOBMhQmf3XGpbSTQo2Bz2gR9UUybaYtyBwJfgmveAt10UFUgE1bkdJ6CYnpykCs Az56B1PRt8zyPVJq1dwp3we8IkCLrYFIjTvW6z7G86lbz0O5f869WWZ6ibzDYuxk8OawwoHC MW idCyvteZSuvnWUp 6lVEsm8GkptdmMMUxsWuPVkSbf pMMTB7ZwnMFmucJ5wrpj6V1RCWWORg6m957NmdKMzhZ8PF8AkUm4mZeRF1dbORr7p9BKU4 RYzRhFXFmIR1GBY34BX2gxUJ yPRwDSj3nINF4dvLsAvvioUeUlXgRj XEROQu9ijvW88xmL27kzhT1zlTB3U3Gn9qLqldhXmKe4pfnYh PfVGR2ieoE6L9xzoPhMt8zRUiJwxlYuctTm0NplUcys1qz bQ9qESR1uYNZQAgdAYXLf ExJoDnNKFMy07BHJ3GUj8UcJAyeXkNjfbJ6Y6PPo6myWhZwLfZPoJdEAraHjKalOeOLUNXmEm7LbAgFUtnNTOBE4NyqYVVLqyAqdfVvo866TDjPU SZu14 jsIw1s1hzoItIr6K9LHDYTA5pi2QP jWIvnvidkZmZ13lSwNt6lHLf7tPRwDw2ow tgmjNV=w944 h236 no?authuser=0 - हिन्दी माध्यम में नोट्स संग्रह

अभ्यास के प्रश्न

प्रश्न 1 – सुनीता को सब लोग गौर से क्यों देख रहे

उत्तर- सुनीता को लोग गौर से इसलिए देख रहे थे. क्योंकि वह अपने पैरों से चलने-फिरने में असमर्थ श्री र पहिया-कुर्सी में बैठकर चली रही थी।

प्रश्न 2. सुनीता को दुकानदार का व्यवहार क्यों बुरा लगा?

उत्तर- सुनीता ने पकड़ने के लिए हाथ या ही था कि दुकानदार ने मैला उसकी गोद में रख दिया। दार का इस तरह दया दिखा उसे अच्छा हीं लगा

मजेदार

सुनीता को सड़क की जिंदगी देखने में मजा आता

(क) तुम्हारे विचार से सुनीता को सड़क देखना अच्छा क्यों लगता होगा?

उत्तर- सुनीता अपने पैरों से बात नहीं सकती थी इसलिए उसे बाहर की चीजों को देखने का मौका कम ही मिल पाता गोगा और वह अकेलापन भी महसूस करती होगी। इस फ उसे सड़क देखना अच्छा लगता होगा ताकि वह बाहरी चीजो को देखकर मन बहला सके।

(ख) अपने घरों की आस-पास की सड़क को ध्यान से देखो और बताओ-

1. तुम्हें क्या-क्या चीजें नजर आती है?

2. लोग क्या-क्या करते हुए नजर आते है?

उत्तर- 1. मुझे सड़क के किनारे पेड़-पौधे और बीजली के खंभे नजर आते है। सड़क पर आते-जाते लोग, साइकि स्कुटर, मोटरसाइकलें, कसे बसें आदि भी दिखाई देती है।

2. लोग आते जाते हुए, बाते करते हुए, नीबू पानी पीते हुए और पेड़ों की छाया में बैठे हुए नजर आते है।

मनाही

फरीदा को माँ ने कहा, “इस तरह के सवाल नहीं पूछने चाहिए/फरीदा पहिया कुर्सी के बारे में जानना चाहती थी ७) पर उसकी माँ ने उसे रोक दिया १५

1. माँ ने फरीदा को क्यों रोक दिया होगा?

उत्तर – फरीदा ने सुनीता से पहिया-कुर्सी के बारे पूछा तो माँ ने सोचा होगा कि उसके इस सवाल से सुनीता के मन को ठेस पहुँचेगी। इसलिए माँ ने फरीदा को रोक दिया। होगा।

2. क्या फरीदा को पहिया कुर्सी के बारे में नहीं पूछना चाहिए थी? तुम्हें क्या लगता है?

उत्तर- मेरी समझ से फरीदा ने सुनीता पहिया-कुर्सी के बारे में पूछकर कोई गलती नहीं की। वह तो स्वभाविक उत्सुकता के कारण पूछ रही थी। उसके मन में सुनीता को दुख पहुँचाने की भावना नहीं थी।

3. क्या तुम्हें भी कोई काम करने या कोई बात कहने से मना किया जाता है? कौन मना करता है? कब मना करता हैं?

उत्तर- हाँ, मुझे बाहर जाकर खेलने से मना किया जाता है। जब मैं अपना होमवर्क पूरा नहीं करता हूँ तब मम्म खेलने से मना करती है। मैं भी कुछ कर सकती हूँ।

(क) यदि सुनीता तुम्हारी पाठशाला में आए तो उसे किन-किन कामों में परेशानी आएगी।

उत्तर- यदि सुनीता मेरी पाठशाला में आए तो सबसे पहले उसे कक्षा में जाने में परेशानी होगी। कक्षा में जाने के लिए उसे बरामदे में चढ़कर जाना होगा। वह खेलकूद में भाग नहीं ले सकेंगी।

(ख) उसे यह परेशानी न हो इसके लिए अपनी पाठशाला में क्या तुम कुछ बदलाव कर सकते हो?

उत्तर- पाठशाला की कक्षाओं में पहुँचने के लिए बरामद में जाने का रास्ता ढालु होना चाहिए। ऐसे खेल भी कराए जाने चाहिए जिन्हें विकलांग बच्चे भी खेल सके। दुसरे बच्च उनके साथ बराबरी का बर्ताव करें, ऐसी व्यवस्था करनी चाहिए।

प्यारी सुनीता

प्रश्न – सुनीता के बारे में पढ़कर तुम्हारे मन में कई सवाल और बातें आ रही होंगी। वे बातें सुनीता को चिट्टी लिखकर बताओं ।

उत्तर-

18-12-2009

ए-22. सेक्टर-3

आर. के. पुरम, नई दिल्ली

प्रिय सुनीता,

सुनीता तुम्हारे बारे में जाना, मैं तुम्हारी हिम्मत की प्रशंसा करती हूँ। लेकिन क्या तुम्हारे मन में कभी इस तरह की बातें नहीं आती कि काश मैं भी सारे बच्चों की तरह चल पाती. दोड़ पाती, तुम्हारी तरह ही ऐसे बहुत सारे बच्चे है, जिनमें से कुछ चल-फिर नहीं सकते, कुछ सुन बोल नहीं सकते, कुछ देख नहीं सकते, उनके लिए तुम क्या कहना चाहोगी? इन बातों का जवाब जरूर लिखना ।

तुम्हारी मोनिका

कहानी से आगे

सुनीता ने कहाँ, मैं पैरों से चल ही नहीं सकती।

(क) सुनीता अपने पैरों से चल-फिर नहीं सकती। इस तरह तुमने कुछ ऐसे बच्चों के बारे में पढ़ा होगा जो देख नहीं सकते फिर भी स्कूल आते हैं किताबें पढ़ लेते हैं।

प्रश्न 2. वे किस तरह की किताबें पढ़ सकते हैं?

उत्तर- वे ब्रेल लिपि में लिखि किताबें पढ़ सकते है।

प्रश्न 2. उस तरह की किताबों के बारे में सबसे पहले किसने सोचा?

उत्तर- उस तरह की किताबों के बारे में सबसे पहले लुई ब्रेल ने सोचा।

प्रश्न (ख) तुम आस-पास कुछ ऐसे लोगों के बारे में भी बात की गई है जो सुन-बोल नहीं सकते हैं।

1. क्या तुम ऐसे किसी बच्चे को जानते हो जो सुन- बोल नहीं सकता ?

उत्तर- हाँ, मेरे पड़ोस में एक लड़का है उसका नाम रवि है। वह सुन बोल नहीं सकता।

2. तुम उसे किस तरह से अपनी बात समझाते हो?

उत्तर- मैं उसे हाथों और चेहरे के इशारों से अपनी बात समझाता हूँ। मेरा अविष्कार सुनीता जैसे कई बच्चे। इनमें से कुछ देख नहीं सकते तो कुछ बोल या सुन नहीं सकते। कुछ बच्चों के हाथों में परेशानी है, तो कुछ चल नहीं सकते। तुम ऐसी ही किसी एक बच्चे के बारे में सोचो। उसके परेशानियों एवं चुनौतियों को भी सोचो। उस चुनौती का सामना करने के लिए तुम क्या अविष्कार करना चाहोगे?

उसके बारे में सोचकर बताओ कि-

1. तुम वह कैसे बनाओगे?

2. उसे बनाने के लिए किन चीजों की जरूरत होगी?

3. वह चींज क्या-क्या काम कर सकेगी?

4. उस चीज का चित्र भी बनाओ?

उत्तर- प्रत्येक विद्यार्थी अपनी कल्पना के आधार पर लिखे और उस अविष्कार का चित्र भी कल्पना के आधार पर ही बनाएँ।

सुनिता की पहिया कुर्सी(कहानी) कक्षा 5 हिन्दी - ALm5wu13B7gbxRKGOfWO4ps52o 5iVl9cr9Oa OxBshX=s40 p - हिन्दी माध्यम में नोट्स संग्रहReplyForward

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!