हिंदी साहित्य का सिद्ध साहित्य

हिंदी साहित्य का सिद्ध साहित्य

बौद्धधर्म विकृत होकर वज्रयान संप्रदाय के रूप में देश के पूरबी भागो में बहुत दिनों से चला आ रहा था । इन बौद्ध तान्त्रिको के बीच वामाचार अपनी चरम सीमा को पहुँचा। ये बिहार से लेकर आसाम तक फैले थे और सिद्ध कहलाते थे । इन तात्रिक योगियों को लोग अलौकिक-शक्ति-संपन्न समझते थे । ये अपनी सिद्धियों और विभूतियों के लिये प्रसिद्ध थे- राजशेखर ने ‘कर्पूरमंजरी’ में भैरवानंद के नाम से एक ऐसे ही सिद्ध योगी का समावेश किया है ।

चौरासी सिद्धों के नाम

चौरासी सिद्धों के नाम ये हैं-लूहिपा, लीलापा, विरूपा, डोभिपा, शवरीपा, सरहपा, कंकालीपा, मीनपा, गोरक्षपा, चौरंगीपा, वीणापा, शांतिपा, तंतिपा, चमरिपा, खडगपा, नागार्जुन, कण्हपा, कर्णरिपा, थगनपा, नारोपा, शीलपा, तिलोपा, छत्रपा, भद्रपा, दोखधिपा, अजोगिपा, कालपा, धोभीपा, कंकणपा, कमरिया, डेगिपा, भदेपा, तधेपा, कुक्कुरिपा, कुचिपा, धर्मपा, महिपा, अचिंतिपा, भल्लहपा, नतिनपा, भूसुकुपा, इद्रभूति, मेकोपा, कुठालिए, जालंधरपा, राहुलपा, धर्वरिपा, धोकरिपा, मेदिनीपा, पंकजपा, घंटापा, जोगीपा, चेलुकपा, गुडरिपा, लुचिकपा, निर्गुणपा, जयानंत, चर्पटीपा, चंपका, भिखनपा, भलिपा, कुमरिपा, चँवरिपा, मणिभद्रा ( योगिनी ), कनखलापा ( योगिनी ), झलकलपा, कंतालीपा, धहुरिपा, उधरिपा, कपालपा, किलपा, सागरपा, सर्वभक्षपा, नारायोधिपा, दारिकपा, पुतुलिपा, पनपा, कोकालिपा, अनंगपा, लक्ष्मीकरा ( योगिनी ) समुदपा, भलिपा ।

( ‘पा’ आदरार्थक ‘पाद’ शब्द है । इस सूची के नाम पूर्वापर कालानुक्रम से नही है । इनमें से कई एक समसामयिक थे । )

पंडिअ सअल सत्त बक्खाणइ । देहहि बुद्ध बसंत न जाणइ।
अमणागमण ण तेन बिखंडिअ । तोवि णिलज्ज भणइ हउँ पंडिअ ।।

जहि मन पवन ने संचरइ, रवि ससि नाहि पवेस ।
तहिं बट चित्त बिसाम करु, सरेहे कहिअ उवेस ।।
घोर अँधारे चँदमणि जिमि उज्जोअ करेइ ।
परम महासुह एखु कणे दुरिअ अशेष हरेइ ।।
जीवंतह जो नउ जर सो अजरामर होई ।
गुरु उपएसें बिमलमई सो पर घण्णा कोई ॥

दक्षिण मार्ग छोड़कर वाममार्ग-ग्रहण का उपदेश-

नाद न बिंदु न रवि न शशि मंडल । चिअराअ सहाबे मूकल ।
उजु रे उजु छाड़ि मा लेहु रे बंक । निअहि वोहि मा जादु रे रंक ।।

लूहिपा या लूइपा (संवत् ८३० के आसपास) के गीतो से कुछ उद्धरण-

काआ तरुवर पंच -बिडाल। चंचल चीए पइठो काल ।

दिट करिअ महासुह परिमाण । लूइ भणई गुरु पुंच्छिअ जाण ।।

भाव न होई, अभाव ण जाई । अइस संबोहे को पतिआइ

लुइ भणइ बट दुर्लक्ख बिणाण । तिअ धाए बिलसई, उह लागे णा ।

बिरूपा ( संक्त् ६०० के लगभग ) की वारुणी-प्रेरितं अतर्मुख साधना की पद्धति देखिए-

सहजे थिर करि वारुणी साध ।

अजरामर होइ दिट कांध ।

दशमि दुआरत चिह्न देखईआ ।

आइल गराहक अपणे बहिआ ।

चउशठि घडिए देट पसारा ।

पइठल गराहक नाहिं निसार ।

कण्हपा ( सं ०.९०० के उपरांत ) की बानी के कुछ खंड नीचे उद्धृत किए जाते हैं

एक्क ण किज्जइ मंत्र ण तंत । णिअ धरणी लइ केलि करंत ।
णिअ घर घरणी जाब ण मज्जइ । ताब किं पंचवर्ण बिहरिज्जइ ।
जिमि लोण बिलज्जइ पाण्डिएहि, तिमि घृरिणी लई चित्त ।
समरस जइ तखणे जइ पुषु ते सम नित्त ।।

वज्रयानियो की योग-तंत्र-साधना से सच्च तथा स्त्रियों का-विशेषतः डोमिनी, रजकी आदि का-अबाध सेवन एक आवश्यक अंग था ।

सिद्ध कण्हपा डोमिनी का आह्वान-गीत इस प्रकार गाते है-

नगर बाहिरै डोंबी तोहरि कुडिया छइ ।
छोइ जाई सो बार नाड़िया ।।

आलो डोंबि ! तोए सम करिब म साँग ।
निघिण कृण्ह कपाली जोइ लाग ।।
एक्क सो पदमा चौपहिं पाखुढी । तढ़ि चढि नाच डोंबी बापुडी ।।
हालो डोंबी! तो पुछमि सदभावे । अइससि जासि डॉबी काहरि नावे ।।

गंगा जउँना माझे रे बहइ नाई ।
ताहि बुधिलि मातंगि पोइआ लीले पार करेइ ।
बाहतु डोंबी, बाहुलो डोबी बाट त भइल उछारा ।
सद्गुरु पाअ पए जाइव पुणु जिणउरा ।।

काआ, नावड़ि खटि मन करिआल । सद्गुरु बअणे घर पतवाल ।
चीअ थिर करि गहु रे नाई ! अन्न उपाये पार ण जाई ।।

कापालिक जोगियो से बचे रहने का उपदेश घर में सास ननंद आदि देती ही रहती थी, पर वे आकर्षित होती ही थीं-जैसे कृष्ण की ओर गोपियों होती थी

राग देस मोह लाइअ छार । परम मोख – लवए मुत्तिहार ।
मारिअ सासु नणंद घरे शाली। माअ मारिया, कण्ह, भइल कबाली ।।

थोड़ा घट के भीतर का विहार देखिए—

नाडि शक्ति दिअ थरिअ खदे । अनंह, डमरू बाजइ’ बीर नादे ।
काण्ड कपाली जी पाठ अचारे । देह नअरी विहरइ एकारे ।।

इसी ढंग का कुक्कुरिपा-( सं० ९०० के उपरांत ) का एक गीत लीजिए-

ससुरी निंद गेल, बहुडी जागअ । कानैट चोर निलका गइ मागअ ।
दिवसइ बहुटी काढ़ई डरे भाअ । राति भइले कामरू जाय ।

रहस्य-मार्गियों की सामान्य प्रवृत्ति के अनुसार सिद्ध लोग अपनी बानी को ऐसी पहेली के रूप में भी रखते थे जिसे कोई विरला ही बूझ सकता है । सिद्ध तांतिपा की अटपटी बानी सुनिए-

बेंग संसार बाड़हिल जाअ। दुहिल दूध के बेटे समाअ ।।
बलद बिआएल गविआ बॉझे । पिटा दुहिए एतिना साँझे ।
जो सो बुज्झी सों धनि बुधी । जो सो, चोर सोइ साधी ।
निते निते पिआला पिहे षम जुझअ । ढूंढपाएर गीत विरले बुझअ ।।

‘महासुखवाद’ का प्रवर्तन

बौद्ध धर्म ने जब तांत्रिक रूप धारण किया तब उसमें पाँच ध्यानी बुद्धों और उनकी शक्तियों के अतिरिक्त अनेक बोधिसत्वों की भावना की गई जो सृष्टि का परिचालन करते है । वज्रयान में आकर ‘महासुखवाद’ का प्रवर्तन हुआ । प्रज्ञा और उपाय के योग से इस ‘महासुखदशा की प्राप्ति मानी गई । इसे आनंद-स्वरूप ईश्वरत्व ही समझिए । निर्वाण के तीन अवयव ठहराए गए शून्य, विज्ञान और महासुख ।

उपनिषद् में तो ब्रह्मानंद के सुख के परिमाण का अंदाज कराने के लिये उसे सहवास-सुख से सौगुना कहा था पर वज्रयान में निर्वाण के सुख का स्वरूप ही सहवास-सुख के समान बताया गया । शक्तियो सहित देवताओं के ‘युगनद्ध’ स्वरूप की भावना चली और उनकी नग्न मूर्तियों सहवास की अनेक अश्लील मुद्राओं में बनने लगीं, जो कहीं कही अब भी मिलती हैं । रहस्य या गुह्य की प्रवृत्ति बढ़ती गई और ‘गुह्य समाज’ या ‘श्री समाज’ स्थान स्थान पर होने लगे । ऊँचे नीचे कई वर्षों की स्त्रियो को लेकर मद्यपान के साथ अनेक बीभत्स विधान वज्रयानियो की साधना के प्रधान अंग थे । सिद्धि प्राप्त करने के लिये किसी स्त्री का ( जिसे शक्ति, यौगिनी या महामुद्रा कहते थे ) योग या सेवन आवश्यक था।

रहस्यवादियों की सार्वभौम प्रवृत्ति के अनुसार ये सिद्ध लोग अपनी बानियों के सांकेतिक दूसरे अर्थ भी बताया करते थे, जैसे-

काआ तरुअर पंच बिड़ाल

(पंच विड़ाल- बौद्ध शास्त्रों में निरूपित पंच प्रतिबद्ध-आलस्य, हिंसा, काम, चिकित्सा और मोह। ध्यान देने की बात यह है कि विकारों की यही पॉच संख्या निर्गुण धारा के संतो और हिंदी के सूफी कवियो ने ली । हिदू शास्त्रों में विकारों की बंधी संख्या ६ हैं । )

गंगा जउँना माझे बहइ रे नाई ।

( इला पिंगला के बीच सुषुम्ना नाड़ी के मार्ग से शून्य देश की ओर यात्रा ) इसी से वे अपनी बानियों की भाषा को “संध्याभाषा” कहते थे ।

ऊपर उद्धृत थोड़े से वचनो से ही इसका पता लग सकता है कि इन सिद्धो द्वारा किस प्रकार के संस्कार जनता में इधर उधर बिखेरे गए थे। जनता की श्रद्धा शास्त्रज्ञ विद्वानो पर ले हटाकर अंतर्मुख साधनोवाले योगियो पर जमाने का प्रयत्न ‘सरह’ के इस वचन घट में ही बुद्ध है यह नहीं जानता, आवागमन को भी खंडित नहीं किया, तो भी निर्लज कहता है कि “मै पंडित हूँ” में स्पष्ट झलकता है। यहीं पर यह समझ रखना चाहिए कि योगमार्गी बौद्वो ने ईश्वरत्व की भावना कर ली थी-

अत्यात्मवेद्यो भगवान् उपमावर्जितः प्रभुः ।।

सर्वगः सर्वव्यापी च कर्ता हत्त जगत्पतिः ।।

श्रीमान् वजसत्त्वोऽसौ व्यक्तभाव-प्रकाशक ।।

व्यक्त भावानुगत तत्त्वसिद्धि⁠⁠⁠⁠ ( दारिकपा की शिष्या सहजयोगिनी चिता कृत )

इसी प्रकार जहाँ रवि, शशि, पवन आदि की गति नहीं वहाँ चित्त को विश्राम कराने का दावा, ऋजु’ ( सीधे, दक्षिण ) मार्ग छोडकर ‘बंक’ (टेढ़ा, वाम ) मार्ग ग्रहण करने का उपदेश भी है । सिद्ध कण्हपा कहते हैं कि जब तक अपनी गृहिणी का उपभोग न करेगा तब तक पंचवर्ण की स्त्रियों के साथ विहार क्या करेगा ?’ । वज्रयान में ‘महासुह’ ( महासुख ) वह दशा बतलाई गई है जिसमे साधक शून्य में इस प्रकार विलीन हो जाता है जिस प्रकार नमक पानी में । इस दशा का प्रतीक खड़ा करने के लिये ‘युगनद्ध’ ( स्त्री-पुरुष का आलिंगनबद्ध जोड़ा ) की भावना की गई ।

कण्हपा का यह वचन कि

“जिमि लौण बिलिज्जइ पाणिएहि तिमि घरणी लई चित्त”

इसी सिद्धांत का द्योतक है ।

कहने की आवश्यकता नहीं कि कौल, कापालिक आदि इन्हीं वज्रयानियों से निकले । कैसा ही शुद्ध और सात्विक धर्म हो, ‘गुह्य’ और ‘रहस्य के प्रवेश से वह किस प्रकार विकृत और पाखंडपूर्ण हो जाता हैं, वज्रयान इसका प्रमाण है।

सिद्ध के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य:

  • सिद्धों का सम्बन्ध बौद्ध धर्म की वज्रयानी शाखा से है।
  • ये भारत के पूर्वी भाग में सक्रिय थे।
  • इनकी संख्या 84 मानी जाती है जिनमें सरहप्पा, शबरप्पा, लुइप्पा, डोम्भिप्पा, कुक्कुरिप्पा ((कणहपा))आदि मुख्य हैं।

प्रथम सिद्ध कवि

  • सरहप्पा प्रथम सिद्ध कवि थे।
  • राहुल सांकृत्यायन ने इन्हें हिन्दी का प्रथम कवि माना तथा सर्वसम्मती से इन्हें हिन्दी का प्रथम कवि स्वीकार किया गया,
  • इन्होंने जातिवाद और वाह्याचारों पर प्रहार किया।
  • देहवाद का महिमा मण्डन किया और सहज साधना पर बल दिया।
  • ये महासुखवाद द्वारा ईश्वरत्व की प्राप्ति पर बल देते हैं।

सिद्ध साहित्य

  • बौद्ध धर्म के वज्रयान तत्व का प्रचार करने के लिए जो साहित्य देश भाषा (जनभाषा) में लिखा गया वही सिद्ध साहित्य कहलाता है।
  • यह साहित्य बिहार से लेकर असम तक फैला था।
  • सिद्धों की भाषा में ‘उलटबासी’ शैली का पूर्व रुप देखने को मिलता है।
  • इनकी भाषा को संध्या भाषा कहा गया है, हजारी प्रसाद द्विवेदी ने सिद्ध साहित्य की प्रशंसा करते हुए लिखा है कि, “जो जनता तात्कालिक नरेशों की स्वेच्छाचारिता, पराजय त्रस्त होकर निराशा के गर्त में गिरी हुई थी, उनके लिए इन सिद्धों की वाणी ने संजीवनी का कार्य किया।
  • साधना अवस्था से निकली सिद्धों की वाणी ‘चरिया गीत / चर्यागीत’ कहलाती है।

सिद्ध साहित्य(SIDDH SAHITYA) के 3 श्रेणी:

(१) नीति या आचार संबंधित साहित्य
(२) उपदेश परक साहित्य
(३) साधना सम्बन्धी या रहस्यवादी साहित्य

सिद्ध साहित्य की प्रमुख विशेषताएं

  • इस साहित्य में तंत्र साधना पर अधिक बल दिया गया।
  • साधना पद्धति में शिव-शक्ति के युगल रूप की उपासना की जाती है।
  • इसमें जाति प्रथा एवं वर्णभेद व्यवस्था का विरोध किया गया।
  • इस साहित्य में ब्राह्मण धर्म का खंडन किया गया है।
  • सिद्धों में पंच मकार (मांस, मछली, मदिरा, मुद्रा, मैथुन) की दुष्प्रवृति देखने को मिलती है।

प्रमुख सिद्ध कवि व उनकी रचनाएँ

  • सरहपा (769 ई.)- दोहाकोष
  • लुइपा (773 ई. लगभग) — लुइपादगीतिका
  • शबरपा (780 ई.) — चर्यापद , महामुद्रावज्रगीति , वज्रयोगिनीसाधना
  • कण्हपा (820 ई. लगभग)– चर्याचर्यविनिश्चय। कण्हपादगीतिका
  • डोंभिपा (840 ई. लगभग)– डोंबिगीतिका, योगचर्या, अक्षरद्विकोपदेश
  • भूसुकपा– बोधिचर्यावतार
  • आर्यदेवपा — कावेरीगीतिका
  • कंवणपा — चर्यागीतिका
  • कंबलपा — असंबंध-सर्ग दृष्टि
  • गुंडरीपा — चर्यागीति
  • जयनन्दीपा — तर्क मुदँगर कारिका
  • जालंधरपा — वियुक्त मंजरी गीति, हुँकार चित्त , भावना क्रम
  • दारिकपा — महागुह्य तत्त्वोपदेश
  • धामपा — सुगत दृष्टिगीतिकाचर्या

प्रातिक्रिया दे