Class-5-Hindi

रेशम चंदन और सोने की धरती कर्नाटक (निबंध) कक्षा 5 हिन्दी

रेशम चंदन और सोने की धरती कर्नाटक (निबंध)

दक्षिण भारत में काजू के आकार का एक राज्य है- कर्नाटक । दक्षिण भारतीय चारों राज्यों आंध्रप्रदेश, केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक में इसका प्रमुख स्थान है। कर्नाटक के उत्तर में महाराष्ट्र तथा पूर्व में आंध्रप्रदेश है। इसकी दक्षिणी सीमा केरल और तमिलनाडु से जुड़ी है। कर्नाटक की पश्चिमी सीमा गोवा तथा अरब सागर का स्पर्श करती है।

कर्नाटक की अधिकांश जनसंख्या कृषि पर निर्भर करती है। उद्योगों की दृष्टि से कर्नाटक भारत का अग्रणी राज्य है। सूचना प्रौद्योगिकी से संबंधित उद्योगों के कारण कर्नाटक की पहचान दुनिया भर में हो गई है। यहाँ दूरसंचार, बैंकिंग, इस्पात, सीमेंट, कॉफी, रेशम उद्योग आदि बड़े स्तर पर संचालित हैं। कर्नाटक में सोने की खान कोलार नामक स्थान पर है। कहते हैं कर्नाटक की संपन्नता का कारण सोने की खान, चंदन के वृक्ष और रेशम हैं।

कर्नाटक के वनों में चंदन के वृक्ष बहुत पाए जाते हैं। चंदन की लकड़ी, तेल, इत्र, अगरबत्तियाँ, सुगंधित पाउडर आदि कर्नाटक के चंदन वनों के प्रमुख उत्पाद हैं। कर्नाटक के प्रसिद्ध राष्ट्रीय उद्यानों में ‘बाँदीपुर टाइगर रिजर्व’ अत्यंत प्रसिद्ध है। हाथियों के झुण्डों को मस्त-मौला अंदाज में सड़क पार करते या जलस्रोतों के पास क्रीड़ा करते सहज ही देखा जा सकता है। चीतल, बारहसिंगा, तेंदुआ, साँभर सहित कई अन्य वन्यजीव यहाँ पाए जाते हैं।

कर्नाटक के प्रमुख शहरों में बैंगलोर (बंगलुरु), मैसूर, हुबली, बेलगाम तथा मैंगलोर हैं। बैंगलोर कर्नाटक की राजधानी है। यहाँ हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (हॉल) नामक कारखाने में वायुयान बनाए जाते हैं। बैंगलोर में “इसरो” का उपग्रह केंद्र है जो उपग्रहों की डिजाइन, निर्माण, परीक्षण और प्रबंधन करता है। बैंगलोर में उपग्रह प्रक्षेपण का नियंत्रण और परिचालन होता है। बैंगलोर को ‘बागों का शहर कहा जाता है। बैंगलोर का लालबाग बड़ा ही प्रसिद्ध है। वर्ष भर यहाँ फूलों की प्रदर्शनी आयोजित होती रहती है। बगीचे में एक मछलीघर भी है जहाँ अनेक प्रकार की सुंदर मछलियाँ रखी गई हैं। बैंगलोर का ‘विधान सौध अपनी उत्कृष्ट वास्तुकला के कारण जाना जाता है।

हुबली और मैंगलोर कर्नाटक के बंदरगाह हैं। मैसूर यहाँ का प्रसिद्ध शहर है। लक्ष्मीविलास मैसूर का सर्वाधिक महत्वपूर्ण महल है। विशेष अवसरों पर रात में बिजली के हजारों बल्ब जलाकर जब यहाँ प्रकाश किया जाता है, तो पूरा महल अत्यंत ही सुंदर दिखता है। यहाँ का विशाल फिलोमेना गिरजाघर भी देखने योग्य है। यहाँ के चिड़ियाघर का अपना ही आकर्षण है। मैसूर के पास ही चामुंडी हिल नामक पहाड़ी है जहाँ चामुंडेश्वरी देवी का प्रसिद्ध मंदिर है।

पहाड़ी पर ही महिषासुर दैत्य की प्रतिमा है, जिसका यहाँ पर चामुंडेश्वरी देवी ने वध किया था। महिषासुर के नाम पर इस शहर का नाम मैसूर पड़ा। चामुंडी हिल के रास्ते में नंदी की विशाल प्रतिमा है, जिसे एक बड़ी चट्टान को तराशकर बनाया गया है।

मैसूर से 20 कि.मी. की दूरी पर ‘वृंदावन उद्यान’ स्थित है। इसकी शोभा निराली है। सुंदर, रंगीन फूलों और फव्वारों से सजे इस बाग में संगीत की धुन पर नाचते रंगीन फव्वारों को देखने बड़ी संख्या में भीड़ जुटती है। उद्यान के एक ओर कावेरी नदी पर विशाल कृष्णराजसागर बाँध है। मैसूर के पास श्रीरंगपट्टनम एक दर्शनीय स्थल है, जो टीपू सुल्तान की राजधानी था। यहाँ का प्राचीन श्री रंगनाथ मंदिर एवं पुराना किला दर्शनीय हैं।

मैसूर से लगभग 100 कि.मी. की दूरी पर जैन तीर्थ श्रवण बेलगोला में भगवान गोमतेश्वर बाहुबली की 57 फीट ऊँची विशाल प्रतिमा है, जिसे एक ही चट्टान को काटकर बनाया गया है। गोमतेश्वर जैनियों के प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव के पुत्र बाहुबली का ही नाम है। बारह वर्षों में एक बार इसका महामस्तकाभिषेक होता है। हंपी में विजयनगर साम्राज्य के अवशेष हैं। यहाँ के विट्ठल स्वामी मंदिर, विरुपाक्ष मंदिर तथा हजारा मंदिर दर्शनीय हैं। हासन में उपग्रह नियंत्रण केन्द्र है।

कर्नाटक के अन्य दर्शनीय स्थलों में जोग प्रपात है, जो भारत का सबसे बड़ा जलप्रपात है। गुलबर्गा, बीजापुर और बीदर में प्राचीन स्मारक हैं। गोकर्ण, उडुपी, धर्मस्थल, मेलुकोट तथा गंगापुर यहाँ के प्रसिद्ध तीर्थस्थल हैं।

कर्नाटक में पुरुष धोतरा (एक प्रकार की धोती) पहनते हैं और महिलाएँ साड़ी पहनती हैं। महिलाएँ अपने जूड़े में फूलों का गजरा अवश्य लगाती हैं। यहाँ के लोग खाने में चावल और नारियल का प्रयोग अधिक करते हैं। ‘सांबर’ तथा ‘रसम के साथ चावल खाया जाता है।
कर्नाटक के अन्य दर्शनीय स्थलों में जोग प्रपात है, जो भारत का सबसे बड़ा जलप्रपात है। गुलबर्गा, बीजापुर और बीदर में प्राचीन स्मारक हैं। गोकर्ण, उडुपी, धर्मस्थल, मेलुकोट तथा गंगापुर यहाँ के प्रसिद्ध तीर्थस्थल हैं।

कर्नाटक में पुरुष धोतरा (एक प्रकार की धोती) पहनते हैं और महिलाएँ साड़ी पहनती हैं। महिलाएँ अपने जूड़े में फूलों का गजरा अवश्य लगाती हैं। यहाँ के लोग खाने में चावल और नारियल का प्रयोग अधिक करते हैं। ‘सांबर’ तथा ‘रसम’ के साथ चावल खाया जाता है।

मैसूर में दशहरे का उत्सव भारत में सबसे शानदार ढंग से मनाया जाता है। इस दिन राजा की सवारी हाथी पर निकलती है। देश-विदेश से लाखों लोग इस अवसर पर यहाँ जमा होते हैं। नवरात्रि के प्रथम दिन से लेकर विजयादशमी तक यहाँ विविध सांस्कृतिक कार्यक्रम होते हैं, जिनमें देश के विख्यात संगीतज्ञ अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं।

यक्षगान कर्नाटक का प्रसिद्ध लोकनाट्य है, जो पौराणिक कथाओं पर आधारित होता है और अभिनय के साथ प्रस्तुत किया जाता है।

कर्नाटक में चंदन की लकड़ी पर की गई दस्तकारी, हाथी- दाँत के खिलौने और अन्य सामग्री बहुत लोकप्रिय हैं। मैसूर के रेशम से बनी साड़ियाँ देश-विदेश में प्रसिद्ध हैं। भारत की गौरव वृद्धि में कर्नाटक का महत्वपूर्ण योगदान है।

प्रश्न और अभ्यास

प्रश्न 1. कर्नाटक में सोने की खान कहाँ है ?

 उत्तर – कर्नाटक में सोने की खान कोलार नामक स्थानपर है।

प्रश्न 2. मैसूर का सबसे महत्वपूर्ण महल कौन-सा है ?

उत्तर- मैसूर का सबसे महत्वपूर्ण महल लक्ष्मी विलास है।

प्रश्न 3. कर्नाटक के प्रसिद्ध लोक नाद्य का नाम क्या है ?

उत्तर – कर्नाटक के प्रसिद्ध लोक नाट्य यक्षगान है।

प्रश्न 4. बिगकोन का शहर किसे कहा जाता है?

 उत्तर बिगचों का शहर बैंगलोर को कहा जाता है

?प्रश्न 5. श्रावण बेलगोला में किसकी विशाल प्रतिमा है ?

 उत्तर- श्रावणबेलगोला में भगवान गोमतेश्वर बाहुबलीकी 57 फीट ऊंची विशाल प्रतिमा है।

 प्रश्न 6. कर्नाटक के सीमावर्ती राज्यों के नाम लेखन?

उत्तर-कर्नाटक के सीमावर्ती राज्य-उत्तर में महाराष्ट्र, पूर्व क्षेत्रप्रदेश, दक्षिण में केरल और तमिलनाडु, पश्चिमगोवा में है।

प्रश्न 7. बैंगलोर के लाल बाग में लिखने की विशेषताएँ?

 उत्तर बैंगलोर का लाल बाग बड़ा ही प्रसिद्ध है। वर्ष- भर यहाँ फूलों की प्रदर्शनी आयोजित होती रहती है। सामान्य में एक मछली घर भी है। कई प्रकार की सुंदर-सुंदर मछलियां पाई जाती हैं।

प्रश्न 8. बाँदीपुर राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने वाले जीवों के नाम लेखन ?

उत्तर- बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान में पाए जाने वाले जीवों के नाम – चीतल, बारहसिंगा, तेंदुआ, सांभर, हाथी आदि।

 प्रश्न 9. वृन्दावन पार्क की विशेषताएँ लेखन?

उत्तर वृन्दावन उद्यान की शोभा निराली है। सुंदर,रंगीन फूल और फव्वारों से इस बाग में संगीत की धुन हैबड़ी संख्या में भीड़ में नाचते रंग फौव्वारों को देखते हैंजमती है।

 प्रश्न 10. कर्नाटक के लोगों के रंग और पहनावे के बारे में लेखन।

उत्तर- कर्नाटक में महिलाएं अधिकारिक परिधान हैं व पुरुष धोती हैं। महिलाओं ने अपने बालों में पौधों का गजरा लगाना शुरू कर दिया है। यहां के लोग खाने में चावल व नारियल का प्रयोग ज्यादा करते हैं यहां ‘सांभर’ व ‘रसम’ के चावल खाए जाते हैं।

प्रश्न 11. मैसूर के दशहरे का वर्णन करें। 

उत्तर- मैसूर में दशहरा बड़ा ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन राजा की शानदार सवारी व्यायाम से हाथी पर चढ़ता है। देश-विदेश के लाखों आदमी इसे देखने के लिए यहां आते हैं। नवरात्रि के पहले दिन से लेकर विजयदशमी तक यहां रहते हैं विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम।

प्रश्न 12. यक्षगान क्या है ?

उत्तर – यक्षगान कर्नाटक की प्रसिद्ध लोकनाट्य है, जो – पौराणिक कथाओं पर आधारित है। और अभिनय के साथ प्रस्तुत किया जाता है।प्रश्न 13. कर्नाटक की तीन प्रमुख वस्तुएँ क्या हैं?

 उत्तर- हाथी दांत के खिलौने, चंदन की लकड़ी पर की ‘गई दस्तकारी, गरम मसाला है।

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!