छत्तीसगढ़ की जनजातियों पर शोध और पुस्तकें

इस पोस्ट में आप छत्तीसगढ़ की जनजातियों पर शोध और पुस्तकें के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे यदि आपको अतिरिक्त जानकारी या कहीं पर आपको त्रुटिपूर्ण लगे तो कृपया पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें सूचित करने की कृपा करें

छत्तीसगढ़ की जनजातियों पर शोध और पुस्तकें

  • छत्तीसगढ़ की जनजातियों पर सर्वप्रथम शोध करने वाले समाजशास्त्रियों में वेरियर एलविन का नाम प्रमुख रूप से लिया जाता है. इनकी पुस्तके हैं – द बैगा, द रीलिजन आफ इन्डीयन ट्राइब्स, द मुरियाज एंड देयर घोटूल, द अगरिया, मुरिया मर्डर एंड सुसाईड.
  • बस्तर की जनजातियों पर डब्‍ल्‍यू. बी. गिर्यसन ने भी काफी महत्वपूर्ण शोध ग्रन्थ लिखा. उनकी पुस्तक है – द मुरिया गोंड आफ बस्तर.
  • बस्तर के पूर्व कलेक्टर रह चुके प्रसिध्द समाजसेवी व जन आंदोलन से जुड़े श्री ब्रम्हदेव शर्मा की पुस्तकें आदिवासी विकास – एक सैध्दांतिक विवेचन, और आदिवासी स्वशासन भी काफी चर्चित हैं.
  • अन्य चर्चित पुस्तकें – बस्तर भूषण – केदारनाथ ठाकुर, आदिवासियों के बीच – श्री चंद जैन.

Leave a Comment

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

error: Content is protected !!