Browsing Category

कक्षा 5

पत्र कक्षा 5 हिन्दी

पत्र कक्षा 5 हिन्दी 132, सी-1 शाहदरा दिल्ली 20 नवम्बर 2010 प्रिय मीना, नमस्ते। बड़े दिन की छुट्टियाँ होने वाली हैं। तुम कुछ दिनों के लिए दिल्ली अवश्य आना। तुम्हें याद होगा कि पिछले वर्ष हमने कितनी मौज-मस्ती से छुट्टियाँ बिताई थीं। अप्पूघर, चिड़ियाघर, गुड़ियाघर की सैर करने में कितना मजा आया था। हम लाल किला और कुतुबमीनार भी देखने गए
Read More...

मैं अमर शहीदों का चारण -श्रीकृष्ण ‘सरल’ (कविता) कक्षा 5 हिन्दी

मैं अमर शहीदों का चारण -श्रीकृष्ण 'सरल' (कविता) कक्षा 5 हिन्दी मैं अमर शहीदों का चारणउनके गुण गाया करता हूँजो कर्ज राष्ट्र ने खाया है,मैं उसे चुकाया करता हूँ। यह सच है, याद शहीदों कीहम लोगों ने दफनाई हैयह सच है, उनकी लाशों परचलकर आज़ादी आई है,उन गाथाओं से सर्द खून को मैं गरमाया करता हूँ।मैं अमर शहीदों का चरण उनके यश गाया करता हूँ।
Read More...

घी गुड़ और शहद देनेवाला वृक्ष (निबंध) कक्षा 5 हिन्दी

घी गुड़ और शहद देनेवाला वृक्ष आओ तुम्हारा परिचय घी गुड़ और शहद देनेवाले एक विचित्र वृक्ष से करवाएँ। उत्तराखण्ड के पहाड़ी इलाकों में एक ऐसा वृक्ष पाया जाता है जो घी गुड़ तथा शहद देता है। इसके अलावा यह वृक्ष फल औषधि जानवरों के लिए चारा ईंधन और कीड़ों व चूहों को मारने के लिए कीटनाशक भी उपलब्ध कराता है। इस पेड़ के बीजों से घी की तरह का इतना तैलीय
Read More...

सोन के फर (कहानी) कक्षा 5 हिन्दी

सोन के फर (कहानी) गजब दिन के बात आय। एक ठन गाँव रहिस। इहाँ के आदमी मन खेती-किसानी के बुता करें। जेकर खेत खार नइ रहँय, ओमन छेरी-पठरू अउ गाय गरुवा राखे रहँय। उही मन ल चरावय । दूध-दही, गोबर, छेना बेच के अपन गुजर-बसर करें । इही गाँव म सुखराम नाँव के मनखे रहिस। ओकर खेती खार नइ राहय त ओहा छेरी-पठरू राखे रहय। ओहा दिन भर जंगल झाड़ी म जाके छेरी
Read More...

मैं सड़क हूँ (आत्मकथा) कक्षा 5 हिन्दी

मैं सड़क हूँ (आत्मकथा) जी हाँ! मैं सड़क हूँ। मिट्टी, पत्थर और डामर से बनी। एक बड़े अजगर की तरह मैदानों, जंगलों, पहाड़ों के बीच से गुजरती हुई। पेड़ों की छाया के नीचे से होकर मैदानों को पार करती हुई, गाँवों को शहरों से जोड़ती हूँ। मेरी उम्र कितनी है, यह मुझे भी याद नहीं। जब आदमी ने एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने की बात सोची होगी, शायद तभी मेरा
Read More...

रोबोट (निबंध) कक्षा 5 हिन्दी

रोबोट (निबंध) आज राहुल का जन्मदिन है। सुबह से ही वह बहुत व्यस्त एवं खुश नजर आ रहा है। सुबह वह जल्दी उठ गया। आज उसने जल्दी स्नान भी कर लिया। अपने जन्मदिन पर उसने अपने मित्रों को भी बुला रखा है। जन्मदिन की पार्टी तो शाम को होने वाली है किन्तु उसके कुछ विशेष मित्र सुबह से ही आ गए हैं। अपने उन मित्रों के साथ मिलकर राहुल अपने घर के बड़े कमरे को सजा
Read More...

गुंडाधूर ( जीवन चरित) कक्षा 5 हिन्दी

गुंडाधूर (जीवन चरित) छत्तीसगढ़ का दक्षिणी भाग बस्तर प्राकृतिक सुंदरता से भरपूर है। यहाँ की कल-कल करती नदियाँ, झर-झर बहते झरने, मनोरम पर्वत मालाएँ तथा सुमधुर स्वर में चहकते वन-पक्षियों की आवाजें आगंतुकों को मंत्रमुग्ध कर देने के लिए पर्याप्त हैं। बस्तर को अपने भोले-भाले आदिवासियों की निश्छल मुस्कान के लिए भी जाना जाता है। ये बड़े ही सरल,
Read More...

जंगल के राम कहानी (कविता) कक्षा 5 हिन्दी

जंगल के राम कहानी (कविता) सुनव-सुनव गा भाई मन, जंगल के राम कहानी | जंगल हमर सगा संबंधी, जंगल हमर जिनगानी || जंगल म रिहिन पुरखा मन, जनम-करम जंगल म जंगल के फर- फूल ल खा के बाढ़िन ओकर बल म । जंगल कभू नइ माँगय कुछु, ओ हर अड़बड़ दानी | सुनव-सुनव गा भाई मन, जंगल के राम कहानी ।। 'जंगल में मंगल' कहिथें जेन सच हे सोला आना,
Read More...

रेशम चंदन और सोने की धरती कर्नाटक (निबंध) कक्षा 5 हिन्दी

रेशम चंदन और सोने की धरती कर्नाटक (निबंध) दक्षिण भारत में काजू के आकार का एक राज्य है- कर्नाटक । दक्षिण भारतीय चारों राज्यों आंध्रप्रदेश, केरल, तमिलनाडु और कर्नाटक में इसका प्रमुख स्थान है। कर्नाटक के उत्तर में महाराष्ट्र तथा पूर्व में आंध्रप्रदेश है। इसकी दक्षिणी सीमा केरल और तमिलनाडु से जुड़ी है। कर्नाटक की पश्चिमी सीमा गोवा तथा अरब सागर का
Read More...