महात्मा गांधी कक्षा सातवीं विषय संस्कृत पाठ 17

महात्मा गांधी कक्षा सातवीं विषय संस्कृत पाठ 17

महात्मागाँधी एक: महापुरुषः आसीत् । सः भारताय अजीवत्। भारताय एव च प्राणान् अत्यजत् । अस्य पूर्ण नाम मोहन दास कर्मचंद गाँधी अस्ति । अस्य जन्म 1869 तमे ख्रीस्ताब्दे अक्टूबर मासस्य द्वितियायां तिथौ पोरबन्दर नाम्नि स्थाने अभवत् । तस्यपितुः नाम कर्मचंदगांधी मातुश्च पुतलीबाई आसीत्। तस्य पत्नी कस्तुरबा धार्मिका पतिव्रतानारी आसीत् ।

शब्दार्था: – अजीवत् = जिए, अस्ति = है, नाग्नि= नामक, अस्य = इनका स्थाने = स्थान पर, पितुः= पिता का, मातुः = माता का ।

अनुवाद – महात्मा गाँधी एक महापुरुष थे। वे भारत के लिए जिए और भारत के लिए मरे । इनका पूरा नाम मोहनदास कर्मचन्द (करमचंद )गाँधी है।

इनका जन्म 2 अक्टूबर सन् 1869 को पोरबन्दर नामक स्थान में हुआ। उनके पिता का नाम कर्मचन्द गांधी और माता का नाम पुतली बाई था। उनकी पत्नी कस्तुरबा धार्मिक व पतिव्रता नारी थी।

बाल्यकालादेव गाँधी एकः सरलः बालकः आसीत् । सः सदा सत्यं वदति स्म । सः आचार्याणां प्रियः आसीत् । उच्चशिक्षा सः आंग्लदेशमगच्छत्। विदेशगमनसमयेमातुः आज्ञया सः संकल्पितवान् यत् अहं मद्यं न सेविष्ये, मांसस्पर्शमपि न करिष्यामि एवं सदा ब्रह्मचर्य आचरिष्यामि । स्वदेशमागत्य सः देशस्य सेवायाम् संलग्नः अभवत् । अस्य ईश्वरे दृढ़ः विश्वासः आसीत् । सः आङ्गलशासकानां विरोधे सत्याग्रहान्दोलने प्रावर्तयत्। तस्य श्रद्धा अहिंसायाम् आसीत् । तस्य सर्वः समयः सर्वाशक्तिः सर्वम् धनं च देशाय एवासीत् ।

सः देशभक्तानाम नायकः आसीत् । सः भारतस्य स्वातंत्र्यार्थम् (स्वतंत्रतायै ) आन्दोलन प्रारम्भत । आङ्गलीयाः ! भारतं त्यजत, इति तस्य घोष वाक्यं आसीत् । अस्य महापुरुषस्य प्रयत्नैः भारतं स्वतंत्र अभवत् ।

शब्दार्था: – बाल्यकालादेव = बचपन से ही, स्म = थे, आँग्लदेशं= इंग्लैण्ड, आज्ञया = आज्ञा से, संकल्पितवान् = संकल्प लिया, मद्यं = शराब, आगत्य= आकर, प्रावर्तयत् = चलाए, सर्वः = सारा, देशाय = देश के लिए, नायक:= नायक (नेता) आँग्लीयाः = अंग्रेजों, त्यज = छोड़ो।

अनुवाद – बचपन से ही गाँधी एक सरल स्वभाव बालक थे। वे सदैव सत्य बोलते थे। वे आचार्यों के प्रिय थे। उच्च शिक्षा के लिए वे इंग्लैण्ड गए। विदेश जाते समय माँ की आज्ञा पर उसने संकल्प लिया कि- मैं शराब का सेवन नहीं करूंगा, मांस को स्पर्श नहीं करूंगा और हमेशा ब्रह्मचर्यव्रत का पालन करूँगा । स्वदेश आकर वे देश सेवा में लग गए। ईश्वर पर उनका दृढ़ विश्वास था। वे अंग्रेज शासकों के विरोध में सत्याग्रह आन्दोलन चलाए । उनकी श्रद्धा अहिंसा पर थी। उनका सारा समय सारी शक्ति और सारा धन देश के लिए था। वे देश भक्तों के नायक थे। वे भारत को स्वतंत्र कराने के लिए आन्दोलन प्रारंभ किये। ‘अंग्रेजों! भारत छोड़ो’– यह उनका घोष वाक्य था। इस महापुरूष के प्रयास से ही भारत स्वतंत्र हुआ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

Comments are closed.