छन्द (Metres) की परिभाषा

छन्द के भेद

वर्ण और मात्रा के विचार से छन्द के चार भेद है-
(1) वर्णिक छन्द
(2) वर्णिक वृत्त
(3) मात्रिक छन्द
(4) मुक्तछन्द

(1) वर्णिक छन्द- 

जिन छंदों में वर्णों की संख्या, क्रम, गणविधान तथा लघु-गुरु के आधार पर
पदरचना होती है, उन्हें ‘वर्णिक छंद’ कहते हैं।
दूसरे शब्दों में- केवल वर्णगणना के आधार पर रचा गया छन्द ‘वार्णिक छन्द’ कहलाता है।
सरल शब्दों में- जिस छंद के सभी चरणों में वर्णो की संख्या समान हो। उन्हें ‘वर्णिक छंद’ कहते हैं।

वर्णिक छंद के सभी चरणों में वर्णो की संख्या समान रहती है और लघु-गुरु का क्रम समान रहता है।
‘वृतों’ की तरह इसमें लघु-गुरु का क्रम निश्र्चित नहीं होता, केवल वर्णसंख्या ही निर्धारित रहती है और इसमें चार चरणों का होना भी अनिवार्य नहीं।

वार्णिक छन्द के भेद

वार्णिक छन्द के दो भेद है- (i) साधारण और (ii) दण्डक

१ से २६ वर्ण तक के चरण या पाद रखनेवाले वार्णिक छन्द ‘साधारण’ होते है और इससे अधिकवाले दण्डक।

प्रमुख वर्णिक छंद : प्रमाणिका (8 वर्ण); स्वागता, भुजंगी, शालिनी, इन्द्रवज्रा, दोधक (सभी 11 वर्ण); वंशस्थ, भुजंगप्रयात, द्रुतविलम्बित, तोटक (सभी 12 वर्ण); वसंततिलका (14 वर्ण); मालिनी (15 वर्ण); पंचचामर, चंचला (सभी 16 वर्ण); मन्दाक्रान्ता, शिखरिणी (सभी 17 वर्ण), शार्दूल विक्रीडित (19 वर्ण), स्त्रग्धरा (21 वर्ण), सवैया (22 से 26 वर्ण), घनाक्षरी (31 वर्ण) रूपघनाक्षरी (32 वर्ण), देवघनाक्षरी (33 वर्ण), कवित्त /मनहरण (31-33 वर्ण)।

दण्डक वार्णिक छन्द ‘घनाक्षरी’ का उदाहरण-
किसको पुकारे यहाँ रोकर अरण्य बीच । -१६ वर्ण
चाहे जो करो शरण्य शरण तिहारे हैं।। – १५वर्ण

‘देवघनाक्षरी’ का उदाहरण-
झिल्ली झनकारै पिक -८ वर्ण
चातक पुकारैं बन -८ वर्ण
मोरिन गुहारैं उठै -८ वर्ण
जुगनु चमकि चमकि -८ वर्ण
कुल- ३३ वर्ण

‘रूपघनाक्षरी’ का उदाहरण
ब्रज की कुमारिका वे -८ वर्ण
लीनें सक सारिका ब -८ वर्ण
ढावैं कोक करिकानी -८ वर्ण
केसव सब निबाहि -८ वर्ण
कुल- ३२ वर्ण

साधारण वार्णिक छन्द (२६ वर्ण तक का छन्द) में ‘अमिताक्षर’ छन्द को उदाहरणस्वरूप लिया जा सकता है। अमिताक्षर वस्तुतः घनाक्षरी के एक चरण के उत्तरांश से निर्मित छन्द है, अतः इसमें ९५ वर्ण होते है और ८ वें तथा ७ वें वर्ण पर यति होती है। जैसे-
चाहे जो करो शरण्य -८ वर्ण
शरण तिहारे है -७ वर्ण
कुल-९५ वर्ण

वर्णिक छंद का एक उदाहरण : मालिनी (15 वर्ण)

वर्णो की संख्या-15, यति 8 और 7 पर
परिभाषा-
न……….न………..म………..य………..य ….. मिले तो मालिनी होवे
।………..।……….. ।………..।……….. ।
नगन……नगन……मगन…..यगण……..यगण
।।।…….।।।……….ऽऽऽ…….।ऽऽ…….।ऽऽ
3……..3…………3…………3………3 =15 वर्ण

प्रथम चरण- प्रिय पति वह मेरा प्राण प्यारा कहाँ है ?
द्वितीय चरण- दुःख-जलनिधि-डूबी का सहारा कहाँ है ?
तृतीय चरण- लख मुख जिसका मैं आज लौं जी सकी हूँ,
चतुर्थ चरण- वह हृदय हमारा नैन-तारा कहाँ है ? (हरिऔध)
1…..2…..3…..4…..5……6……7……8…….9……..10…..11……..12……13…..14…..15
(प्रि).(य).(प)…(ति)…(व)…(ह)….(में)…(रा)…(प्रा)…..(ण)…..(प्या)…..(रा)…..(क)…..(हाँ)…..(है)
……नगन……………..नगन………….. मगन……………………यगण……………………यगण

(2) वार्णिक वृत्त-

 वृत्त उस समछन्द को कहते है, जिसमें चार समान चरण होते है और प्रत्येक चरण में आनेवाले वर्णों का लघु-गुरु-क्रम सुनिश्र्चित रहता है। गणों में वर्णों का बँधा होना प्रमुख लक्षण होने के कारण इसे वार्णिक वृत्त, गणबद्ध या गणात्मक छन्द भी कहते हैं। ७ भगण और २ गुरु का ‘मत्तगयन्द सवैया’ इसके उदाहरणस्वरूप है-

भगण भगण भगण भगण
ऽ।। ऽ।। ऽ।। ऽ।।
या लकुटी अरु कामरि या पर
भगण भगण भगण गग
ऽ।। ऽ।। ऽ।। ऽऽ
राज तिहूँ पुर को तजि डारौं : – कुल ७ भगण +२ गुरु=२३ वर्ण
‘द्रुतविलम्बित’ और ‘मालिनी’ आदि गणबद्ध छन्द ‘वार्णिक वृत्त’ है।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.