हिन्दी साहित्यकार

इस श्रेणी में हिन्दी भाषा के साहित्यकारों के जीवन परिचय, रचनाएँ , लेखन कला व साहित्य में स्थान के बारे में बताने का प्रयास किया गया है.

Bhikhari-Das-Hindi-poet

भिखारीदास का साहित्यिक परिचय

भिखारीदास रीतिकाल के श्रेष्ठ हिन्दी कवि थे। कवि और आचार्य भिखारीदास का जन्म प्रतापगढ़ के निकट टेंउगा नामक स्थान में सन् 1721 ई० में हुआ था। इनकी मृत्यु बिहार में आरा के निकट भभुआ नामक स्थान पर हुई। भिखारी दास की रचनाएँ भिखारी दास जी के निम्न ग्रंथों का पता लगा है – रससारांश – संवत् 1799 छंदार्णव पिंगल – संवत् 1799 काव्यनिर्णय – संवत् …

भिखारीदास का साहित्यिक परिचय Read More »

Nand Das

नंददास का साहित्यिक परिचय

नंददास का जन्म सनाढ्य ब्राह्मण कुल में वि ० सं ० 1420 में अन्तर्वेदी रामपुर (वर्तमान श्यामपुर) में हुआ जो वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश के कासगंज जिले में है। ये संस्कृत और बृजभाषा के अच्छे विद्वान थे। भागवत की रासपंचाध्यायी का भाषानुवाद इस बात की पुष्टि करता है। रचनाएँ रास पंचाध्यायी सिद्धान्त पंचाध्यायी अनेकार्थ …

नंददास का साहित्यिक परिचय Read More »

hindi sahitykar ka parichay

नामदेव का साहित्यिक परिचय

नामदेव का साहित्यिक परिचय नामदेव भारत के प्रसिद्ध संत थे। भक्त नामदेव महाराज का जन्म 26 अकटुबर 1270 (शके 1192) प्रथम संवत्सर कार्तिक शुक्ल एकादशी को में महाराष्ट्र के सातारा जिले में कृष्णा नदी के किनारे बसे नरसीबामणी नामक गाँव में एक शिंपी जिसे छीपा भी कहते है के परिवार में हुआ था। इनके पिता …

नामदेव का साहित्यिक परिचय Read More »

hindi sahitykar ka parichay

कुलपति मिश्र का साहित्यिक परिचय

कुलपति मिश्र आगरा के रहने वाले ‘माथुर चौबे’ थे और महाकवि बिहारी के भानजे के रूप में प्रसिद्ध हैं। इनके पिता का नाम ‘परशुराम मिश्र’ था। कुलपति जी जयपुर के महाराज जयसिंह के पुत्र महाराज रामसिंह के दरबार में रहते थे। कविता काल इनके ‘रस रहस्य’ का रचना काल कार्तिक कृष्ण 11, संवत् 1727 है। …

कुलपति मिश्र का साहित्यिक परिचय Read More »

hindi sahitykar ka parichay

  शबरपा का साहित्यिक परिचय

शबरपा सिद्ध साहित्य की रचना करने वाले प्रमुख सिद्धों में से एक हैं। इनका जन्म 780 ई॰ में क्षत्रिय कुल में हुआ था। इन्होंने सरहपा से ज्ञान प्रप्त किया। शबरों की तरह जीवन व्यतीत करने के कारण इन्हें शबरपा कहा जाने लगा। इनकी प्रसिद्ध पुस्तक चर्यापद है। शबरपा ने माया-मोह का विरोध करके सहज जीवन …

  शबरपा का साहित्यिक परिचय Read More »

hindi sahitykar ka parichay

पद्माकर का साहित्यिक परिचय

रीति काल के ब्रजभाषा कवियों में पद्माकर (1753-1833) का महत्त्वपूर्ण स्थान है। वे हिंदी साहित्य के रीतिकालीन कवियों में अंतिम चरण के सुप्रसिद्ध और विशेष सम्मानित कवि थे। पद्माकर के पिता मोहनलाल भट्ट सागर में बस गए थे। यहीं पद्माकर जी का जन्म सन् 1753 में हुआ। पद्माकर राजदरबारी कवि के रूप में कई नरेशों …

पद्माकर का साहित्यिक परिचय Read More »

hindi sahitykar ka parichay

कृष्णदास का साहित्यिक परिचय

कृष्णदास हिन्दी के भक्तिकाल के अष्टछाप के कवि थे। उनका जन्म 1495 ई. के आसपास गुजरात में चिलोतरा ग्राम के एक कुनबी पाटिल परिवार में हुआ था। बचपन से ही प्रकृत्ति बड़ी सात्विक थी। जब वे 12-13 वर्ष के थे तो उन्होंने अपने पिता को चोरी करते देखा और उन्हें गिरफ्तार करा दिया फलत: वे …

कृष्णदास का साहित्यिक परिचय Read More »

hindi sahitykar ka parichay

भूषण का साहित्यिक परिचय

महाकवि भूषण का जन्म संवत 1670 तदनुसार ईस्वी 1613 में हुआ। वे मूलतः टिकवापुर गाँव के निवासी थे जो वर्तमान में उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के घाटमपुर तहसील में पड़ता है। उनके दो भाई चिन्तामणि और मतिराम भी कवि थे। ‘शिवराज भूषण’ ग्रंथ के निम्न दोहे के अनुसार ‘भूषण’ उनकी उपाधि है जो उन्हें …

भूषण का साहित्यिक परिचय Read More »

hindi sahitykar ka parichay

चतुर्भुजदास का साहित्यिक परिचय

चतुर्भुजदास, कुम्भनदास के पुत्र और गोस्वामी विट्ठलनाथ के शिष्य थे। डा ० दीन दयाल गुप्त के अनुसार इनका जन्म वि ० सं ० 1520 और मृत्यु वि ० सं ० 1624 में हुई थी। इनका जन्म जमुनावती गांव में गौरवा क्षत्रिय कुल में हुआ था। वार्ता के अनुसार ये स्वभाव से साधु और प्रकृति से …

चतुर्भुजदास का साहित्यिक परिचय Read More »

hindi sahitykar ka parichay

छीतस्वामी का साहित्यिक परिचय

छीतस्वामी वल्लभ संप्रदाय (पुष्टिमार्ग) के आठ कवियों (अष्टछाप कवि) में एक। जिन्होने भगवान श्री कृष्ण की विभिन्न लीलाओं का अपने पदों में वर्णन किया। छीतस्वामी का जन्म इनका जन्म १५१५ ई० में हुआ था। मथुरा के चतुर्वेदी ब्राह्मण थे। छीतस्वामी के गुरु छीतस्वामी श्री गोकुलनाथ जी के शिष्य थे। छीतस्वामी जी का एक पद भोग …

छीतस्वामी का साहित्यिक परिचय Read More »

error: Content is protected !!