हिन्दी व्याकरण

पत्र-लेखन की परिभाषा

पत्र-लेखन की परिभाषा लिखित रूप में अपने मन के भावों एवं विचारों को प्रकट करने का माध्यम ‘पत्र’ हैं। ‘पत्र’ का शाब्दिक अर्थ हैं, ‘ऐसा कागज जिस पर कोई बात लिखी अथवा छपी हो’। पत्र के द्वारा व्यक्ति अपनी बातों को दूसरों तक लिखकर पहुँचाता हैं। हम पत्र को अभिव्यक्ति का एक सशक्त माध्यम भी …

पत्र-लेखन की परिभाषा Read More »

अनुच्छेद-लेखन (Paragraph Writing) की परिभाषा

अनुच्छेद-लेखन (Paragraph Writing) की परिभाषा किसी एक भाव या विचार को व्यक्त करने के लिए लिखे गये सम्बद्ध और लघु वाक्य-समूह को अनुच्छेद-लेखन कहते हैं।दूसरे शब्दों में- किसी घटना, दृश्य अथवा विषय को संक्षिप्त किन्तु सारगर्भित ढंग से जिस लेखन-शैली में प्रस्तुत किया जाता है, उसे अनुच्छेद-लेखन कहते हैं। ‘अनुच्छेद’ शब्द अंग्रेजी भाषा के ‘Paragraph’ शब्द …

अनुच्छेद-लेखन (Paragraph Writing) की परिभाषा Read More »

शब्द (Etymology) की परिभाषा

शब्द (Etymology) की परिभाषा दो या दो से अधिक वर्णो से बने ऐसे समूह को ‘शब्द’ कहते है, जिसका कोई न कोई अर्थ अवश्य हो।दूसरे शब्दों में- ध्वनियों के मेल से बने सार्थक वर्णसमुदाय को ‘शब्द’ कहते है।इसे हम ऐसे भी कह सकते है- वर्णों या ध्वनियों के सार्थक मेल को ‘शब्द’ कहते है।जैसे- सन्तरा, कबूतर, …

शब्द (Etymology) की परिभाषा Read More »

वाक्य विचार की परिभाषा भाग व भेद

वाक्य विचार की परिभाषा जिस शब्द समूह से वक्ता या लेखक का पूर्ण अभिप्राय श्रोता या पाठक को समझ में आ जाए, उसे वाक्य कहते हैं।दूसरे शब्दों में- विचार को पूर्णता से प्रकट करनेवाली एक क्रिया से युक्त पद-समूह को ‘वाक्य’ कहते हैं।सरल शब्दों में- वह शब्द समूह जिससे पूरी बात समझ में आ जाये, ‘वाक्य’ कहलाता …

वाक्य विचार की परिभाषा भाग व भेद Read More »

शब्द शक्ति (Word-Power) की परिभाषा

शब्द शक्ति (Word-Power) की परिभाषा शब्द का अर्थ बोध करानेवाली शक्ति ‘शब्द शक्ति’ कहलाती है।शब्द-शक्ति को संक्षेप में ‘शक्ति’ कहते हैं। इसे ‘वृत्ति’ या ‘व्यापार’ भी कहा जाता है। सरल शब्दों में- मिठाई या चाट का नाम सुनते ही मुँह में पानी भर आता है। साँप या भूत का नाम सुनते ही मन में भय का …

शब्द शक्ति (Word-Power) की परिभाषा Read More »

रस (Sentiments) की परिभाषा

रस (Sentiments) की परिभाषा साहित्य को पढ़ने, सुनने या नाटकादि को देखने से जो आनन्द की अनुभूति होती है, उसे रस कहते हैं। रस का शाब्दिक अर्थ है ‘आनंद’। काव्य को पढ़ने या सुनने से जिस आनंद की अनुभूति होती है,उसे ‘रस’ कहा जाता है। भोजन रस के बिना यदि नीरस है, औषध रस के …

रस (Sentiments) की परिभाषा Read More »

छन्द (Metres) की परिभाषा

छन्द (Metres) की परिभाषा वर्णो या मात्राओं के नियमित संख्या के विन्यास से यदि आहाद पैदा हो, तो उसे छंद कहते है।दूसरे शब्दो में-अक्षरों की संख्या एवं क्रम, मात्रागणना तथा यति-गति से सम्बद्ध विशिष्ट नियमों से नियोजित पद्यरचना ‘छन्द’ कहलाती है। महर्षि पाणिनी के अनुसार जो आह्मादित करे, प्रसन्न करे, वह छंद है (चन्दति हष्यति …

छन्द (Metres) की परिभाषा Read More »

अव्यय की परिभाषा भेद व क्रिया विशेषण

अव्यय की परिभाषा जिन शब्दों के रूप में लिंग, वचन, कारक आदि के कारण कोई परिवर्तन नही होता है उन्हें अव्यय (अ + व्यय) या अविकारी शब्द कहते है ।इसे हम ऐसे भी कह सकते है- ‘अव्यय’ ऐसे शब्द को कहते हैं, जिसके रूप में लिंग, वचन, पुरुष, कारक इत्यादि के कारण कोई विकार उत्पत्र नही …

अव्यय की परिभाषा भेद व क्रिया विशेषण Read More »

अनेकार्थी शब्द की परिभाषा

अनेकार्थी शब्द की परिभाषा ऐसे शब्द, जिनके अनेक अर्थ होते है, अनेकार्थी शब्द कहलाते है।दूसरे शब्दों में- जिन शब्दों के एक से अधिक अर्थ होते हैं, उन्हें ‘अनेकार्थी शब्द’ कहते है।अनेकार्थी का अर्थ है – एक से अधिक अर्थ देने वाला। भाषा में कुछ ऐसे शब्दों का प्रयोग होता है, जो अनेकार्थी होते हैं। खासकर यमक …

अनेकार्थी शब्द की परिभाषा Read More »

हिंदी व्याकरण

लिंग की परिभाषा भेद व पहचान

लिंग की परिभाषा “संज्ञा के जिस रूप से व्यक्ति या वस्तु की नर या मादा जाति का बोध हो, उसे व्याकरण में ‘लिंग’ कहते है।दूसरे शब्दों में-संज्ञा शब्दों के जिस रूप से उसके पुरुष या स्त्री जाति होने का पता चलता है, उसे लिंग कहते है।सरल शब्दों में- शब्द की जाति को ‘लिंग’ कहते है। जैसे-पुरुष …

लिंग की परिभाषा भेद व पहचान Read More »

error: Content is protected !!