गावो विश्वस्य मातरः कक्षा छठवीं विषय संस्कृत पाठ 2

गावो विश्वस्य मातरः कक्षा छठवीं विषय संस्कृत पाठ 2

गौ न केवलं भारतस्य अपितु विश्वस्य माता अस्ति । सर्वेषु पशुषु गौ: एका अहिंसका बुद्धिमती स्नेहकारिणी पारिवारिकाः पशुः अस्ति । माता इव सा अस्माकं जीवनं रक्षितुं समर्था अस्ति । यथा माता दुखं सोड्ढवा अपि पुत्रं रक्षति, लालयति, पालयति च, तथैव गौः शस्यानि बुषं भुक्त्वा शीतातपं वर्षां च सोड्ढवा अस्मभ्यं दुग्धं ददाति.

शब्दार्थाः – गौः = गाय, अपितु = बल्कि, बुद्धिमती बुद्धिमान, स्नेहकारिणी = स्नेह करने वाली, इव = समान, सा= वह, अस्माकं हमारे, यथा = जैसे, सोड्ढवा = सहकर, अपि भी, तथैव = वैसे ही, शस्यानिः घास, बुषं= भूसा, भुक्त्वा = खाकर, अस्मभ्यं = हमें, ददाति = देती है। 

अनुवाद-गाय न केवल भारत की बल्कि संसार की माता है। सभी पशुओं में गाय एक अहिंसक, बुद्धिमती, स्नेह करने वाली और पारिवारिक(पालतू )पशु है। माता की भाँति वह हमारे जीवन की रक्षा करने में समर्थ है। जिस प्रकार माता दुःख सहकर भी पुत्र की रक्षा, लालन और पालन करती है, उसी प्रकार गाय घास-भूसा खाकर शीत, गर्मी और वर्षा को सहकर हम सब के लिए दूध देती है।

तस्याः दुग्धं सर्वेषां पशुनां दुग्धात् श्रेष्ठतरं, सुपाच्यं, स्फूर्तिदायकं, मेधावर्धकं च भवति । दुग्धात् परिवर्तित दधि, तर्क, घृतं च स्वास्थाय विशिष्टं लाभप्रदं भवति । तक्रेण घृतेन च प्राणरक्षका अनेकाः औषधयः निर्मिताः भवन्ति । गो :मूत्रं नेत्रयो:अपूर्वा औषधि:, अनेकासु औषधिषु अपि प्रयुक्तं भवति

शब्दार्थाः- तस्याः = उसका, सर्वेषां= सभी श्रेष्ठतरं = श्रेष्ठ, मेघावर्धकं = बुद्धिवर्धक, भवति =होता है, दधि =दही, तक्रं = मट्ठा (छाछ), ओषधयः = दवाइयाँ, निर्मिताः भवन्ति = निर्मित होती हैं।

अनुवाद- उसका दूध सभी पशुओं के दूध से श्रेष्ठ, सुपाच्य, स्फूर्तिदायक और बुद्धिवर्धक होता है। दूध से बदलकर दही, मट्ठा और घी स्वास्थ्य के लिए विशिष्ट लाभदायक होता है। मट्ठे और घी से प्राण रक्षक अनेक औषधियाँ निर्मित होती हैं। गाय का मूत्र नेत्र की अद्भुत औषधि है और अनेक औषधियों में भी प्रयुक्त होती है।

गोमयेन वयं स्वगृहान् पवित्रीकुर्मः । गोमयस्य स्पर्शेण अनेकान् मानसिकरक्तचापसम्बंधि रोगान् शमयति । अनेन सिद्धयति यत् गौः अनेकेन प्रकारेण अस्माकं मातृवत् रक्षा करोति । गोवत्साः अस्माकं कृषि प्रधाने देशे कृषकाणां अपूर्वा सहायकाः सन्ति ।

शब्दार्था:- गोमयेन = गोबर से, वयं = हम गृहान= घरों को, शमयति = दूर हो जाता है, यत्= कि, मातृवत् = माँ की तरह, करोति= करती है, गोवत्साः = गाय के बछड़े, कृषकाणां = किसानों के।

अनुवाद- गाय के गोबर से हम सब अपने घरों को पवित्र (स्वच्छ )करते हैं। गोबर के स्पर्श से अनेक मानसिक, रक्तचाप सम्बन्धी रोगों को दूर किया जाता है। इससे सिद्ध है कि गाय अनेक प्रकार से हमारी माता के समान रक्षा करती है। गाय के बछड़े हमारे कृषि प्रधान देश में किसानों की अपूर्व सहायता करते हैं।

ते कृषकैः सह न केवलं कृषिकार्य कुर्वन्ति अपितु शकटं अपि वहन्ति। गोमयं गोमूत्रं च श्रेष्ठतमं कृषि-पोषक तत्वं खादसंज्ञकम् अस्ति। यदि गो: सम्पूर्णभावेन रक्षा स्यात् तदा निश्चयमेव समस्तं विश्वं दुग्धेन, घृतेन, अन्नेन च जनान् पालयितुं समर्थो भविष्यति । अतःइयं उक्तिः सत्यायत् गावो विश्वस्य मातरः” इति

शब्दार्था:- ते =वे सब, कृषकैः =किसानों के सह =साथ, अपितु=बल्कि, शकटं =बैलगाड़ी, जनान् =लोगों को, अत:=इसलिए, इयं=यह विश्वस्य= संसार मातर:= माता।

अनुवाद- वे कृषकों के साथ न केवल कृषि कार्य करते हैं बल्कि बैलगाड़ी भी खींचते हैं। गोबर और गोमूत्र सबसे श्रेष्ठ कृषि पोषक तत्व खाद संज्ञक है। यदि गाय की सब प्रकार से रक्षा होती है तब निश्चय ही समस्त संसार दूध,घी और अनाज से लोगों को पालने में समर्थ होगा। अत: यह कथन सत्य है कि गायें संसार की माता हैं।

अभ्यास प्रश्नाः

1. निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर संस्कृत में लिखिए-

(क) गौः कीदृशः पशु अस्ति ?

उत्तर- गौ: अहिंसका बुद्धिमती स्नेहकारिणी पारिवारिका च पशुः अस्ति।

(ख) गोः दुग्धं कियत् लाभकारकं भवति ?

उत्तर- गोः दुग्धं सुपाच्यं स्फूर्तिदायकं मेघावर्धक च भवति ।

(ग) गोमयस्य उपयोगः केषु केषु कार्येषु भवति ?

 उत्तर- गोमयस्य उपयोगः वयं स्वगृहान् पवित्रीकार्यार्थ, कृषि पोषक तत्व- रूपे, मानसिक रक्तचापसम्बन्धि रोगात् रामयितुम् च कुर्मः।

 (घ) कथम् गौः विश्वस्य माता अस्ति ?

उत्तर- गौ: न केवलं भारते प्रत्युत समग्रे विश्वे जनानां जीवनं रक्षित अतः सा विश्वस्य माता इति कथ्यते।

(ङ) गोवत्सानां प्रयोगः केषु कार्येषु वयं कुर्मः ? 

उत्तर- गोवत्सानां प्रयोगः वयं कृषि-कार्येषु कुर्मः।

2. निम्नलिखित वाक्यों का संस्कृत में अनुवाद कीजिए- 

(क) राम के साथ लक्ष्मण भी वन को जाते हैं।

अनुवाद- रामेण सह लक्ष्मणः अपि वनं गच्छति।

(ख) कृष्ण के साथ गोप खेलते हैं। 

अनुवाद- कृष्णेन सह गोपाः खेलन्ति।

(ग) किसानों के साथ बैल (वृषभ) भी काम करते हैं।

अनुवाद – कृषकैः सह वृषभाः अपि कार्य कुर्वन्ति ।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.