छत्तीसगढ़ी के अव्यय

इस पोस्ट में आप छत्तीसगढ़ी के अव्यय के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे यदि कहीं पर आपको त्रुटिपूर्ण लगे तो कृपया पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स पर लिखकर हमें सूचित करने की कृपा करें

छत्तीसगढ़ी के अव्यय

समुच्चय बोधक अव्यय –


संयोजक – अउ, अउर
मैं अउ तैं एके संग रहिबोन।
वियोजक – कि, ते
रामू जाहि कि तैं जाबे।
विरोधदर्शक = फेर, लेकिन
संग म लेग जा फेर देखे रहिबे।
परिणतिवाचक = तो, ते, ते पाय के, धन
बुधारू बकिस ते पाय के झगरा होगे।
दिन-रात कमइस तभे तो पइसा सकेल पइस अउ अपन बेटी के बिहाव करिस।
आश्रय सूचक = जे, काबर, कि, जानौ (जाना-माना), मानौ (जाने-माने)
तैं ओला काबर बके होबे।
अइसन गोठियात हस जाना-माना तैं राजा भोज अस अउ मैं गगवा तेली।
विस्मयादिबोधक अव्यय –
विस्मय – आँय, राम-राम, ए ददा, ए दाई, अरे, हे
आँय, का होगे ?
राम-राम, अइसन बखानत हे नहीं।
ए दाई ऽ ऽ अतका कन पई ऽ सा ऽ।
घृणा – दुर-दुर, छी, छि-छि, थू. हत, दुर-दुर एला दूरिहा राख। छि-छि, ओ टूरा ह पीथे तहाँ निचट बकथे। थू , कइसन बस्सावत हे।
हर्ष / प्रशंसा – वा, बने, धन-धन, सुग्घर, वा, बने करे बेटा। कत्तेक सुग्घर हे ओकर बहुरिया हा। धन-धन मोर भाग, मोर घर बेटी होगे।
पीड़ा – हाय, हा दाई /ददा, दाई वो, ददा गा, हा दाई ऽ मर गेंव वो ऽ। ददा गा , मैं नई तइसे लागथे अब्बड़ पीरावत हे।

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
Leave A Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!