आलोचना या समालोचना (Criticism) किसी वस्तु/विषय की, उसके लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए, उसके गुण-दोषों एवं उपयुक्ततता का विवेचन करने वालि साहित्यिक विधा है। हिंदी आलोचना की शुरुआत १९वीं सदी के उत्तरार्ध में भारतेन्दु युग से ही मानी जाती है। ‘समालोचना’ का शाब्दिक अर्थ है – ‘अच्छी तरह देखना’।

‘आलोचना’ शब्द ‘लुच’ धातु से बना है। ‘लुच’ का अर्थ है ‘देखना’। समीक्षा और समालोचना शब्दों का भी यही अर्थ है। अंग्रेजी के ‘क्रिटिसिज्म’ शब्द के समानार्थी रूप में ‘आलोचना’ का व्यवहार होता है। संस्कृत में प्रचलित ‘टीका-व्याख्या’ और ‘काव्य-सिद्धान्तनिरूपण’ के लिए भी आलोचना शब्द का प्रयोग कर लिया जाता है किन्तु आचार्य रामचन्द्र शुक्ल का स्पष्ट मत है कि आधुनिक आलोचना, संस्कृत के काव्य-सिद्धान्तनिरूपण से स्वतंत्र चीज़ है। आलोचना का कार्य है किसी साहित्यक रचना की अच्छी तरह परीक्षा करके उसके रूप, गणु और अर्थव्यस्था का निर्धारण करना।

There aren't any posts currently published in this category.