भ्रमरगीत सार वस्तुनिष्ठ प्रश्न

भ्रमरगीत सार वस्तुनिष्ठ प्रश्न

हिन्दी वस्तुनिष्ठ प्रश्न
हिन्दी वस्तुनिष्ठ प्रश्न

1)श्री कृष्ण किसे संदेशवाहक बनाकर भेजते है??
उद्धव🎯
अक्रूर जी
बलराम
किसी को नही
2)उपांगसुत किन्हें कहा जाता है??
उद्धव🎯
अक्रूर
बलराम
कृष्ण

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
3)वृषभानुतनया किन्हे कहा गया है–
यशोदा
रुक्मणी
राधा🎯
सुशीला

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
4)किनके रूप,रंग,शरीर, मे समानता बताई गयी है—
उद्धव
कृष्ण
1+2 दोनो🎯
बलराम
सभी

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
5)उद्धव जी का ज्ञान ,गर्व किनको देखकर नष्ट हो गया????
यशोदा
नंदबाबा
गोपियों को🎯
कृष्ण

6)भ्रमरगीत सार का प्रकाशन हुआ–
1918
1919
1923
1925🎯

7)सूरदास जी कितने प्रमुख रस बताये है—
1
2🎯(श्रृंगार,वात्सल्य)
3
4

8)सूरदास जी ने जीवन की वृत्तियाँ बताई है??
बालवृत्ति
यौवनवृत्ति
1+2दोनो🎯
जरावृत्ति
सभी

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
8)शक्ति,शील,सौन्दर्य की इन तीन विभेतियों मे सूर ने केवल ———को अपनाया???
शील
शक्ति
सौन्दर्य🎯
सभी को

9)रतिभाव के प्रबल और प्रधान रूप कितने है???
1
2
3🎯(1,भगवद्षियक,वात्सल्य,दाम्पत्य रति)
4

10)किसी कवि की रचना मे मुख्यतः कितने पक्ष होते है???
1
2🎯(हृदय पक्ष,कला पक्ष)
3
4

11)भ्रमरगीत सार मे किन अलंकारो की प्रमुखता है???
उपमा
रूपक
मानवीयकरण
सादृश्यमूलक🎯

12)भ्रमर गीत श्रृंगार का कैसा काव्य है????
महाकाव्य
विप्रलंभ
उपालंभ🎯
इनमे से कोई नही

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
13)सूरदास वशंज कहे जाते है???
सिंकदर लोदी
चंदबरदाई🎯
वल्लभाचार्य
अकबर
🎯🎯🎯🎯🎯🎯
14)सूरदास जी गुरू थे???
विट्ठलनाथ
वल्लभाचार्य🎯
रामानंद
राघवानंद

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
15)हिन्दी साहित्य मे श्रृंगार का रसराजत्व किसी ने पूर्ण रूप से दिखाया है,वह है??
तुलसी
कबीर
सूरदास🎯
उपरोक्त सभी


16)सूर के अनुसार प्रेम की उत्पत्ति मे किसका योग है??
रूप लिप्सा
साहचय्य
1+2 दोनो🎯
इनमें से कोई नही


17)आमिय,हलाहल मद भरे,स्वेत स्याम रतनार।।
पंक्तियाँ है–?
तुलसीदास
मीराबाई
सूरदास
रसलीन🎯


18)भ्रमर गीत की विशेषता है??
सगुणोपासना का समर्थन
निगुणोपाहना का खंडन
ज्ञानयोग का खंडन
2+3दोनो🎯
इनमें से कोई नही


19)सूर की गोपियों की विशेषता नहीं है??

  • निगुणोपासक🎯
  • तर्कशील
  • कृष्ण के प्रतिप्रेमभावना
  • सगुणोपासक

20)सूरदास जी किस संप्रदाय के अनुयायी थे??

  • सखी संप्रदाय
  • निंर्बाक संप्रदाय
  • राधावल्लभ संप्रदाय
  • वल्लभ संप्रदाय🎯

21)भम्रर गीत सार के पद किस ग्रंथ से संकलित है???

  • श्रीमद् भागवत
  • सूरसरावली
  • साहित्यलहरी
  • सूरसागर🎯

22)सूरदास का जन्म स्थान माना जाता है???

  • सीही🎯
  • रूनकता
  • पारसौली
  • आगरा

23)सूरदास की भक्ति भावना किस वर्ग के अंतर्गत आती है??

  • दास्य भाव
  • साख्य भाव🎯
  • भक्तिभाव
  • सभी

24)””सूरदास की भक्ति पद्धति का मेरूदंड पुष्टिमार्ग ही है।””कथन है??

  • नगेन्द्र
  • रामचंद्र शुक्ल🎯
  • गणपति चंद्र
  • नामवर सिंह

25)निम्न मे से किस कवि की गोपियाँ अधिक भावुक है??

  • रत्नाकर
  • सूरदास🎯
  • नंददास
  • सभी की है।

1)भक्ति हैं-

  • निवृतिमुखी
  • प्रवृत्तिमार्गी✅✅
  • दोनो
  • कोई नही

2)बड़े एवम कुशल व्यापारी कहा गया है-

  • उद्धव✅✅
  • अक्रूर
  • ज्ञान को
  • कृष्ण

3)सूर ने भगवान का रूप बताया है–
रस रूप✅✅
ऐशवर्य रूप
शान्त रूप
श्रृंगार रूप

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
4)वल्लभआचार्य ने कौन सा मार्ग दिखाया था —
सामीप्य मुक्ति
सारूप्य मुक्ति
सामुज्य मुक्ति✅✅
इनमे से सभी

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
5) सूर के प्रेम की उत्पत्ति में योग है–
साहचार्य लिप्सा
रूप लिप्सा
दोनों✅✅
दोनों नहीं

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
6)कूट पदों में पाए जाते है–
उपमा
श्लेष
यमक
2 व 3✅
इनमे से सभी

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
7)रामचरितमानस की कथा के वक्ता है—
1 ) शिव
2)याज्ञवल्क्य
3)कांकभुशुण्डि
4)सभी✅

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
8)सूरसागर की शैली पर तुलसी की रचना है-
विनयपत्रिका
गीतावली✅✅
दोहावली
कवितावली

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
9)सूर की प्रतिभा हैं-
अंतर्मुखी
बहुमुखी
सर्वतोमुखी
एकमुखी✅✅

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
10)सुफ़लकसुत कहा गया है-
1)कृष्ण
2)कुब्जा
3)अक्रूर✅✅
4)उद्धव

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
11)खुभी है-
1)कान में पहनने का गहना✅✅
2)नाक में पहनने का गहना
3)कमर में पहनने का गहना
4)कलाई में पहनने का गहना

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
12)भृंगकिट कहा गया है-
सगुण
निर्गुण
उद्धव✅
अक्रूर
🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
13)निष्ठुर का तात्पर्य है-
कूरी✅
कितव
कुटिल
इनमे से सभी

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
14)हम तो ———– भांति फल पायो-
प्रेम
चहुँ
दुहुँ✅✅
नाना
🎯🎯🎯🎯🎯🎯
15)अधारि हैं-
1)साधुओं के विश्राम करने का स्थान
२)साधुओं के भोजन ग्रहण करने का प्याला
3)साधुओं के टेकने की लकड़ी✅✅
4)इनमे से सभी

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
16)एक म्यान दो खांडे में है-
मुहावरा
कहावत✅✅
लक्षणा
व्यंजना

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
17)यादवजात किसे कहा गया है-
अक्रूर
उद्धव✅✅
दोनों
कोई नहीं
🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
18) घोष का अर्थ है-
आवाज़
व्यापारी
अहीरों की बस्ती✅✅
निर्गुण का गर्त

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
19)मुँहचाहि का अर्थ है??
प्रिया✅✅
उद्धव
अक्रूर
इनमें से कोई नही

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
20)मनुष्य की पूर्ण अभिव्यक्ति करता हैं?
रागात्मकता कृति✅
बोध कृति
दोनो
दोनो नहीं

🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯🎯
21)जीवन मुँहचाहों को नीको में भाव है-
करुण भाव
क्रोध भाव
असूया भाव✅✅
इनमें से सभी

🎯🎯🎯🎯🎯🎯
22)श्रीकृष्ण किसके साथ मथुरा गए???
नंदबाबा के साथ
वासुदेव के साथ
उद्धव के साथ
अक्रूर के साथ✅✅
🎯🎯🎯🎯🎯🎯
23)सुमेलित नही है-
1)रत्नाकर-उद्धवशतक
2)सत्यनारायण कविरत्न-भंवरगीत✅✅
3)सूरदास-सूरसागर
4)सत्यनारायन कविरत्न-भ्रमर दुत

1.सूरसागर में भ्रमरगीत के माध्यम से सूर ने मौलिक विधान किया है
अ उद्धव के ब्रज आगमन
ब उद्धव के उपदेश
स भ्रमर के बहाने उलाहने
द ज्ञान या योग का विरोध✔

2 , सूरसागर का कथा आधार श्रीमद् भागवत का कौन सा स्कंध है
अ सप्तम स्कंध
ब अष्टम स्कंध
स नवम स्कंध
द दशम स्कंध✔

3, सूर के भ्रमरगीत के बाद कई कवियों ने भी इसी वृतांत पर काव्य रचनाएं की जिस किसी एक में यशोदा को भारतमाता व देश प्रेम की व्यंजना की गई वह काव्य है –
अ.भ्रमरगीत- सूरदास
ब. भंवर गीत -नंददास
स. उद्धव शतक- जगन्नाथ दास रत्नाकर
द. भ्रमर दूत- सत्यनारायण कविरत्न✔

4, भ्रमरगीत सार पूर्णतया इस प्रकार का काव्य है
अ भक्ति काव्य
ब उपालंभ काव्य ✔
स विप्रलम्भ काव्य
द प्रेम काव्य

5,भ्रमरगीत सार की भाषा है

अ अवधि
ब ब्रज
स राजस्थानी मिश्रित ब्रज
द संस्कृत मिश्रित ब्रज✔

6, भ्रमरगीत के पदों में किस अलंकार का प्रयोग अधिकता के साथ हुआ है
अ दृष्टांत
ब उपमा
स सादृश्य मूलक✔
द उदाहरण

7, सुर का जन्म सीही मानने वाले विद्वान का नाम है
अ डॉ श्याम सुंदर दास
ब आचार्य रामचंद्र शुक्ल
स डॉ हजारी प्रसाद द्विवेदी
द डॉ नगेंद्र ✔

8, सूर ने अपने काब्य में कृष्ण के किस रूप का चित्रण किया है
अ लोक रक्षक
ब लोकरंजन ✔
स योगेश्वर
द परम ब्रह्म

9, भ्रमरगीत परंपरा में किस कवि की गोपियां अधिक तार्किक है
अ नंददास ✔
ब रत्नाकर
स सुर
द कवि रत्न

10, भ्रमरगीत की रस योजना है
अ शांत
ब वात्सल्य
स भक्ति
द वियोग श्रृंगार ✔

11, सूर की भक्ति पद्धति है

अ दास्य भाव
ब सख्य भाव ✔
स माधुर्य भाव
द भक्ति भाव

12, “हरि काहे के अंतर्यामी” इस पंक्ति में किस प्रकार की भाव प्रतीत होती है।
अ कृष्ण भगवान नहीं थे
ब विरोध प्रकट किया गया
स कृष्ण का ईश्वर होने पर संदेह
द क्षुब्ध उलाहना ✔
13, ” हरि आगे कुब्जा अधिकारी ” में कौन सा भाव संचार प्रदर्शित है-
अ अव्हितथा
ब असूया✔
स अमर्ष
द आवेग
14, काहे को गोपीनाथ कहावत …के बाद अगली पंक्ति टेक है –
अ सो किन नाम धरावत
ब गोकुल काहे न आवत✔
स हमहीं कलंक लगावत
द औरे दसन दिखावत

15,सूरसागर के काव्य रूप को ज्यादातर विद्वानों ने माना हैं
अ लीला प्रबंध काव्य
ब गीतिप्रबंध काव्य
स गेय मुक्तक काव्य ✔
द कृष्ण चरित काव्य

16, भ्रमरगीत को ध्वनि काव्य मानने वाले विद्वान का नाम है
अ आचार्य शुक्ल ✔
ब डॉ सत्येंद्र
स हजारी प्रसाद
द डॉ चंद्रबली पांडे
17, सूरसागर को स्त्री जाति का विशाल काव्य किसने कहा है
अ डॉ रामकुमार वर्मा
ब शिखर चंद जैन
स हजारी प्रसाद ✔
द आचार्य शुक्ल

18, “काव्य और संगीत का मणिकांचन संयोग सूरदास की हिंदी काव्य को मौलिक देन है “यह कथन है –
अ डॉ भटनागर
ब डॉ मुंशी राम शर्मा ✔
स आचार्य शुक्ल
द हजारी प्रसाद द्विवेदी

19, “प्रेम के सवा लाख गानों का समुद्र एक बार भी उद्वेलित नहीं हुआ कहीं भी निर्मरयाद नहीं “कथन है-
अ शिखर चंद जैन
ब नंददुलारे वाजपेई
स हजारी प्रसाद द्विवेदी✔
द डॉ रामकुमार वर्मा

20, भ्रमरगीत को सूर साहित्य का मुकुट मणि किसने कहा
अ आचार्य शुक्ल ✔
ब डॉ विजेंद्र स्नातक
स प्रेम नारायण टंडन
द डॉ रामविलास शर्मा

प्रातिक्रिया दे