अस्माकम् आहार: कक्षा छठवीं विषय संस्कृत पाठ 12

अस्माकम् आहार: कक्षा छठवीं विषय संस्कृत पाठ 12

अस्मिन् संसारे सर्वे प्राणिनः आहार गृहणन्ति। जीवनरक्षार्थम् आहारस्य अतीव आवश्यकता भवति । मानवस्य आहारः कीदृशः भवेत् इति विषये अस्माकं ऋषयः मुनयः वैद्याश्च उपदिशन्ति यत् बाल्यकालात् वृद्धावस्था पर्यन्तं अस्माकम् आहारः सन्तुलितः भवेत्। सद्य प्रसूतः शिशुः मातुः दुग्धमेव पिबति । मातुर्दुग्धं पौष्टिक भवति। पौष्टिक आहारेण शिशवः संवर्धयन्ते सर्व-जनेभ्यः आहारे पौष्टिक फलानां महती आवश्यकता वर्तते अन्यथा ते दुर्बलाः अशक्ताश्च भविष्यन्ति । 

शब्दार्थाः- अस्मिन् = इस कीदृशः कैसा, उपविशन्ति बैठते हैं, पर्यन्तं तक, सद्यः तुरन्त पिवति =पीता है, महती =बड़ी, वर्तते =है अन्यथा =नहीं तो, भविष्यन्ति =हो जायेंगे।

अनुवाद- इस संसार में सभी प्राणी आहार ग्रहण करते हैं। जीवन की रक्षा के लिए आहार (भोजन) की अत्यधिक आवश्यकता होती है। मनुष्य का आहार कैसा होना चाहिए, इस विषय में हमारे ऋषि मुनि और वैद्य उपदेश देते हैं कि बचपन से वृद्धावस्था तक हमारे आहार सन्तुलित होना चाहिए। नवजात शिशु माता के ही दूध को पीता है। माता का दूध पौष्टिक होता है। पौष्टिक आहार से शिशु बढ़ते हैं। सभी लोगों के आहार में पौष्टिक फलों की महती आवश्यकता है अन्यथा (नहीं तो) वे सुब दुर्बल और अशक्त हो जायेंगे।

अस्माकम् आहार: उष्णः, स्निग्धः स्वादयुक्तः च भवेत्। मानवः मितभोगी भवेत् अन्यथा अजीर्ण भविष्यति, वैद्याः कथयन्ति अजीर्णमन्नं रोगस्य कारणमस्ति । प्रसन्नचित्तेन स्वच्छस्थाने संयमेन उपविश्य नात्यधिकं नातिद्रुतम् आहार कुर्यात्।

शब्दार्था:- अस्माकं = हमारा, उष्णः = गर्म, स्निग्धः = चिकना, मितभोगी = कम खाना, अजीर्ण= अपच, उपविश्य बैठकर, नात्यधिकं = न बहुत अधिक नातिद्रुतम् = न बहुत जल्दी, आहारं कुर्यात् खाना चाहिए। =

अनुवाद- हमारा आहार गर्म, चिकना और स्वादिष्ट होना चाहिए। मनुष्य को कम खाना चाहिए नहीं तो अपच होगा। वैद्यगण कहते हैं-अपच रोग का कारण है। प्रसन्नचित स्वच्छ स्थान पर संयमपूर्वक बैठकर न बहुत अधिक न बहुत शीघ्र खाना चाहिए।

बकः तण्डुलः गोधूम दिलं यः आढकी, मुद् माष:, इत्यादीनि अन्नानि सन्ति। कूष्माण्डकः, कर्कटी, अलाबू, मूलिका, आर्य, इक्षुः कदलीफलम् इत्यादीनि शाकफलानि सन्ति। नवनीत, दुग्ध, तर्क, दधि इत्यादिकं पेयम् अस्ति। एते सर्वे शाकाहारि-मानवानाम् आहाराः।

शब्दार्था:- चणक: = चना, तण्डुलः =चावल, गोधूम:=गेहूँ, द्विदलं = दाल, यवः = जौ, मुद्गः = मृग, माषः = उड़द दाल, कृष्माण्डकः = कुम्हड़ा, कर्कटी = ककड़ी, अलाबू: = आलू, नवनीत = मक्खन, घृतं =घी, तक्रं =मट्ठा, दधि = दही, एते= ये, सर्वे =सब ।

अनुवाद-चना, चावल, गेहूँ, दाल, जौ, अरहर की दाल, मूंग, उड़द इत्यादि अनाज हैं। कुम्हड़ा, ककड़ी, आलू, मूली, आम, ईख (गन्ना), केला फल इत्यादि सब्जी फल हैं। मक्खन, दूध, घी, मट्ठा, दही इत्यादि पीने योग्य हैं। ये सभी शाकाहार मनुष्यों के आहार हैं।

बालानां कृते दुग्धम् अमृतं कथ्यते तं तु बलवर्धकम्। मधु रक्त-शोधनं करोति । श्रीफलम्, आमलकः, आमरूद्यः स्वास्थ्यं रक्षयन्ति, उदर-शोधनं बलवर्धनम् च कुर्वन्ति । उक्तञ्च – आहार शास्त्रे “शाकाहारी मनुष्यः दीर्घायुः भवति ।”

शब्दार्था:- बालानां कृते बच्चों के लिए, कथ्यते = कहा जाता है, घृतं घी, तु तो, बलवर्धकम् शक्ति वर्धक, रक्त= खून, श्रीफलम् = नारियल, आमलकः आँवला, उदरं शोधनं = पेट साफ, उक्तम् = कहा गया है।

अनुवाद-बच्चों के लिए दूध को अमृत कहते हैं। घी तो बलवर्धक होता है। मधु (शहद) रक्त (खून) को शुद्ध करता है। नारियल, आँवला, अमरूद स्वास्थ्य की रक्षा करते हैं, पेट शुद्ध करते हैं और बलवर्धक होते हैं। आहार शास्त्र में कहा गया है- “शाकाहारी मनुष्य दीर्घायु होता है.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

Comments are closed.

error: Content is protected !!